MDH ग्रुप के मालिक धर्मपाल गुलाटी का निधन, कई दिनों से चल रहे थे बीमार इलाज, छोड़ गए 1000 करोड़ की संपत्ति

MDH OWNER

डेस्क : MDH यानि ‘महाशयां दी हट्टी’ के मालिक व सीईओ महाशय धर्मपाल गुलाटी (Mahashay Dharampal Gulati) का आज 97 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। ये साल मालूम नहीं क्या – क्या लेके जायेगा हम सब से, उनके निधन की खबर आते ही सोशल मीडिया पर ट्वीट्स की बाढ़ आ गई है। सभी लोग पोस्ट शेयर कर उनके निधन पर शोक जता रहे हैं, साथ ही उन्हें श्रद्धांजलि भी अर्पित कर रहे हैं। MDH मसाले के मालिक धर्मपाल गुलाटी (MDH Owner Dharampal Gulati) के निधन को लेकर बिग बॉस 13 के कंटेस्टेंट तहसीन पूनावाला (Tehseen Poonawalla) ने भी ट्वीट किया है। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा कि दादाजी, जिनकी तस्वीरें कई मां अपने किचन में रखती हैं। इसके साथ ही तहसीन पूनावाला ने कहा कि उन्हें हमेशा याद किया जाएगा।

मालूम हो कि MDH के मालिक धर्मपाल गुलाटी (Mahashay Dharampal Gulati) का जन्म मार्च, 1923 में सियालकोट (अब पाकिस्तान) में हुआ था। उनके पिता महाशय चुन्नीलाल गुलाटी ने एमडीएच की स्थापना की थी और भारत की स्वतंत्रता के साथ हुए बंटवारे में ही उनका परिवार हिंदुस्तान चला आया था। कुछ ही समय बाद वह दिल्ली में आकर बस गए थे। महाशय धर्मपाल गुलाटी को पिछले वर्ष ही देश के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था।

महाशयां दी हट्टी नाम से बनाई गई मसालों की उनकी कंपनी देश के सबसे पहले-पहले मसालों के लिए जाने वाली कंपनियों में से एक है। देश विभाजन के बाद पाकिस्तान से भारत में आकर बसे गुलाटी ने तांगे से अपनी आजीविका शुरू की और आज वह 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा के कारोबार वाली अपनी कंपनी छोड़कर इस दुनिया से कूच कर गए। 

महाशय धर्मपाल गुलाटी (Mahashay Dharampal Gulati) के निधन को लेकर किया गया तहसीन पूनावाला (Tehseen Poonawalla) का ट्वीट सोशल मीडिया पर लोगों का खूब ध्यान खींच रहा है, साथ ही यूजर इसपर कमेंट भी कर रहे हैं। अपने ट्वीट में उन्होंने महाशय धर्मपाल गुलाटी को याद करते हुए लिखा, “दादाजी, जिनकी तस्वीरें मां अपने किचन में रखती हैं और मशहूर मसाला ब्रांड एमडीएच के मालिक, धर्मपाल गुलाटी जी ने 97 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया। उन्हें हमेशा याद किया जाएगा. क्या सफर था उनका, इसलिए उनकी याद में एक बार और…एमडीएच एमडीएच। ओम शांति।”

You cannot copy content of this page