Friday, July 19, 2024
Knowledge

क्या आपके पड़ोसी ने आपकी जमीन पर निकला मकान का छज्जा? जानिए- कैसे होगी कार्रवाई….

Property Advisor : देश में आए दिन अतिक्रमण की खबरें सामने आती रहती है। दो पड़ोसियों के बीच यह बड़ी विवाद की वजह बन जाती है। ऐसे में एक मामला और चरम पर है। कई बार ऐसा देखा जाता है कि पड़ोसी घर बनाते समय अपने घर का छज्जा दूसरे पड़ोसी के जमीन पर बना देता है।

यह छज्जा हवा में होती है। लेकिन इसे भी अतिक्रमण माना जाएगा। इसको लेकर लोग आपस में लड़ तक जाते हैं। लेकिन इसके लिए आप कानून का सहारा भी ले सकते हैं। ताकि जब आप अपना घर बनाए तो आपको दिक्कत ना हो। तो आइए आज इससे जुड़ी कानूनी प्रक्रिया को जानते हैं।

अगर आपके साथ भी ऐसा कोई मामला आता है तो सबसे पहले आपको अपने पड़ोसी से बात करनी चाहिए। बेहतर होगा कि ऐसे मामले आपसी सहमति से ही सुलझा लिए जाएं। भले ही पड़ोसी के घर की बालकनी जमीन पर नहीं बल्कि आसमान में लटक रही हो लेकिन अगर आपको इससे परेशानी हो रही है तो यह अतिक्रमण माना जाएगा।

एसडीएम ऑफिस में करें शिकायत

अगर मामला बातचीत से नहीं सुलझता है तो आपको अपने क्षेत्र के एसडीएम कार्यालय में अपील करनी चाहिए। जमीन या मकान से जुड़े मामलों की सुनवाई के लिए हर एसडीएम कार्यालय में लोक अदालत लगाई जाती है। बेहतर होगा कि आप अपने दस्तावेजों और फोटोग्राफ्स और संबंधित अतिक्रमण से जुड़े दस्तावेजों के साथ अपील कर सकें। यदि आप लोक अदालत में अपनी शिकायत समझाने में सक्षम हैं तो मामले की जांच शुरू हो सकती है।

अदालत है अंतिम उपाय

अगर आपको ऊपर बताई गई दोनों जगहों से निराशा हाथ लगती है तो कोर्ट जाना ही आखिरी रास्ता होगा। आपको सभी दस्तावेजों और अतिक्रमण के सबूत के साथ अदालत का दरवाजा खटखटाना चाहिए। बेहतर होगा कि इसके लिए किसी राजस्व वकील की मदद लें और पूरी तैयारी के साथ कोर्ट में अपील करें। आपको आवेदन के साथ अतिक्रमण से संबंधित सभी दस्तावेज और फोटो भी संलग्न करने होंगे।

Nitesh Kumar Jha

नितेश कुमार झा पिछले 2.5 साल से thebegusarai.in से बतौर Editor के रूप में जुड़े हैं। इन्हें भारतीय राजनीति समेत एंटरटेनमेंट और बिजनेस से जुड़ी खबरों को लिखने में काफी दिलचस्पी है। इससे पहले वह असम से प्रकाशित अखबार दैनिक पूर्वोदय समेत कई मीडिया संस्थानों में काम किया। उनके लेख प्रभात खबर, दैनिक पूर्वोदय, पूर्वांचल प्रहरी और जनसत्ता जैसे अखबारों में भी प्रकाशित हो चुके हैं। अभी नीतेश दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से MA मास मीडिया कर रहे हैं।