इंसानों की तरह कुत्तों के भी आते हैं आँखों में खुशी के आंसू

Dog Tears

डेस्क : आपने ज्यादातर समय कुत्ते को रोते हुए सुना होगा। जानवर अपनी भावनाओं को अपने तरीके से व्यक्त करते हैं, लेकिन इंसानों और कुत्तों के बीच का रिश्ता इतना खास है कि उनमें भी वे भावनाएं पनपती हैं, जो अक्सर प्रजातियों के आंसुओं के माध्यम से व्यक्त होती हैं। हाल ही में एक दिलचस्प अध्ययन जारी किया गया है जिसमें दिखाया गया है कि खुश आँसू न केवल इंसानों से आते हैं, बल्कि सदियों से इंसानों से जुड़े कुत्तों में भी बहुत सारी भावनाएँ या भावनाएँ होती हैं जैसे: लोग।

थोड़ी देर बाद फिर से मालिक से मिलने के बाद, उन्होंने आँसू बहाए, जिसकी बदौलत उन्होंने इस मिलन से खुश होकर अपनी भावनाएँ व्यक्त कीं। वैसे इस बात पर भी काफी शोध हो चुका है कि जानवर अपनी भावनाओं को कैसे व्यक्त करते हैं। कई जानवर भी बहुत आंसू बहाते हैं, लेकिन खुशी के आंसू पूरी तरह कुत्तों के पास जाते हैं।नए शोध से पता चलता है कि जब आप अपने कुत्ते को जाने देते हैं और कुछ दिनों के लिए बाहर घूमते हैं, तो वे उदास हो जाते हैं।

जब वह वापस गया और उससे मिला, तो उसने इस बैठक के दौरान आंसू बहाए, क्योंकि वह इस बैठक में इतना खुश हुआ कि उसने आँसुओं के माध्यम से भी अपनी भावनाओं को दिखाया। यह अध्ययन करंट बायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित हुआ था। इसमें कुत्तों की आंखों में बहने वाले आंसुओं का स्मीयर टेस्ट किया गया, आंख के नीचे एक विशेष पट्टी लगाकर आंख में तरल देखा जा सकता था। शोधकर्ताओं ने सामान्य परिस्थितियों में कुत्तों की आंखों के तरल पदार्थ की जांच की जब वे आम तौर पर अपने मालिकों के संपर्क में आते हैं।

ये भी पढ़ें   यदि चलती Train में ड्राइवर सो जाए तो क्या होगा? कभी सोचा है आपने.. आज जान लीजिए..

उसके बाद, आंखों के डिस्चार्ज की जांच की जाती है, भले ही मालिक ने उन्हें छोड़ दिया हो और थोड़ी देर बाद वापस आ गया हो। की स्थिति क्या है। ऐसा माना जाता है कि कुत्ते इशारों से आंखों के संपर्क के माध्यम से अपनी कई भावनाओं को व्यक्त करते हैं। इस अध्ययन के शोधकर्ताओं में से एक, जापान के अजाबू विश्वविद्यालय के ताकाफुमी किकुशुई का कहना है कि हमने कभी नहीं सुना कि जानवरों की आंखों में खुशी के आंसू भी आते हैं। शोधकर्ताओं को यह पता लगाना था कि कुत्तों से आए आँसुओं के पीछे क्या है।

क्या आपके बॉस के साथ आपके संबंधों का भावनात्मक प्रभाव पड़ता है? यह स्पष्ट है कि कुत्तों के साथ मनुष्य का रिश्ता बहुत पुराना है, और सदियों से यह रिश्ता भी एक विशेष तरीके से विकसित हुआ है। समय के साथ, कुत्तों ने भी मनुष्यों के साथ संवाद करने के विशिष्ट तरीके विकसित किए हैं।