अब आप बीमा पॉलिसी पर भी ले सकते हैं Loan, ब्याज दरें भी रहेंगी कम, जानें – पूरा तरीका..

Policy Loan

डेस्क : आजकल के लाइफस्टाइल में किसे कब पैसों की जरूरत पड़ जाए, कुछ नहीं कहा जा सकता। साथ ही कभी कभी समझ भी नहीं आता की पैसों का जुगाड कैसे किया जाए। कहां से उधार ले किससे मांगे। तो हम अपनी इस रिपोर्ट में आपको बताते हैं की आपको कहां से पैसों के जुगाड कर सकते हैं और चुकाना भी आपके लिए आसान होता है। आपको बताते हैं कुछ टिप्स जिसके साथ आप बिना किसी जोखिम वाला लोन हासिल कर सकते हैं.

यदि आपने किसी भी कंपनी की बीमा पॉलिसी ली है तो आप उस पर भी आपको लोन मिल सकता है। ये लोन लेने के लिए आपको किसी नॉन-बैकिंग फाइनेंशल कंपनी (NBFC) या बैंक में संपर्क करना पड़ेगा। वहां से आपको पॉलिसी के बदले कम ब्याज पर आसानी से लोन मंजूर हो जाएगा।

लोन पर निर्भर करती हैं ब्याज दरें : बीमा पॉलिसी पर लिए गए लोन (Loan) पर कितना ब्याज देना होगा, यह प्रीमियम के अमाउंट और किश्तों की संख्या के हिसाब से निकाली जाएगी। अगर प्रीमियम और किश्तों की संख्या ज्यादा होगी तो ब्याज की दर उतनी ही कम होगी। अमूमन बीमा पॉलिसी पर लिए गए लोन पर ब्याज की दरें 10 से 12 प्रतिशत के बीच होती हैं।

बीमा पॉलिसी वाली कंपनी से भी ले सकते हैं लोन : मालूम हो आपको लोन आपकी बीमा कम्पनी से भी मिल सकता है। कंपनी आपके चुकाए गए बीमा प्रीमियम के आधार पर आपको लोन की रकम तय करेगी। वो लोन आपको नियत समय में चुका देना होगा। यदि किन्हीं कारणों से आप लोन नहीं चुका पाते तो आपके कुल प्रीमियम में से लोन की राशि काटकर बाद में वापस कर दी जाती है।

ये भी पढ़ें   भारत में आने वाला है मंदी का सबसे बुरा दौर- सटीक भविष्यवाणी करने वाले अर्थशास्त्री ने चेताया..

इन डॉक्यूमेंट्स की होगी जरूरत : यदि आपको अपनी पॉलिसी के बदले लोन चाहिए तो आपको सबसे पहले अपनी बीमा कंपनी से संपर्क करना होगा। वहां से लोन फॉर्म ले और भरें। अगर आप बैंक या फाइनेंशल कंपनी से लोन ले रहे हैं तो उनके फॉर्म भी फिल करें। इसके बाद सभी जरूरी कागजातों के ओरिजनल डॉक्यूमेंट्स और उनकी एक-एक फोटोकॉपी साथ लेकर जाएं। लोन अमाउंट लेने के लिए आपको एक कैंसल चेक भी फॉर्म के साथ देना होगा। कागजातों के वेरिफिकेशन के कुछ समय बाद लोन अप्रूव हो जायेगा।