December 7, 2022

LIC शेयर में भरी गिरावट, निवेशकों को 2 लाख करोड़ का नुकसान

LIC शेयर में भरी गिरावट, निवेशकों को 2 लाख करोड़ का नुकसान 1

डेस्क : साल 2022 में स्टॉक एक्सचेंज का सबसे चर्चित और सबसे बड़ा आईपीओ लाने वाली देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी के शेयर की कीमत में गिरावट थमने का नाम नहीं ले रही है. मंगलवार, 27 सितंबर, 2022 के कारोबारी सत्र में सूचीबद्ध होने के बाद से शेयर की कीमत अपने सबसे निचले स्तर पर आ गई है। एलआईसी के शेयर 628.20 रुपये के स्तर पर गिर गए हैं। जबकि कंपनी 949 रुपये प्रति शेयर के भाव पर आईपीओ लेकर आई थी।

इश्यू प्राइस से 34 फीसदी कम : विदेशी निवेशकों की बिकवाली से शेयर बाजार में गिरावट आई है. वहीं एलआईसी का शेयर भी इसके असर से अछूता नहीं है। जब से एलआईसी के शेयर स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हुए हैं, स्टॉक कभी भी अपने आईपीओ मूल्य से ऊपर कारोबार नहीं कर पाया है। एलआईसी ने 949 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से आईपीओ लाया था। अब एलआईसी का शेयर अपने इश्यू प्राइस से 34 फीसदी नीचे 628 रुपये के आसपास कारोबार कर रहा है। एलआईसी के आईपीओ में निवेश करने वाले निवेशकों को प्रति शेयर 321 रुपये का नुकसान हो रहा है।

मार्केट कैप 2 लाख करोड़ घटा : एलआईसी का बाजार पूंजीकरण भी घटकर 3.98 लाख करोड़ रुपये रह गया है। जबकि एलआईसी जिस निर्गम मूल्य पर आईपीओ लेकर आई थी, तब उसका मार्केट कैप 6 लाख करोड़ रुपये था। यानी एलआईसी के बाजार पूंजीकरण में 2 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की सेंध लगी है.

बाजार धारक को कोई मदद नहीं : आपको बता दें कि एलआईसी वही कंपनी है जिसने कई मौकों पर बाजार को सहारा देने का काम किया है। जब भी बाजार में बड़ी गिरावट आती है तो एलआईसी खरीददारी करके बाजार को रोकने की कोशिश करती है। यही वजह है कि शेयर बाजार में लिस्टेड सभी ब्लूचिप कंपनियों में एलआईसी की हिस्सेदारी है। लेकिन चूंकि एलआईसी खुद शेयर बाजार में सूचीबद्ध थी, इसलिए उसके शेयर में गिरावट का कोई समर्थन नहीं है। सरकार ने एलआईसी के शेयरों की महंगी कीमत के जरिए हिस्सेदारी बेचकर आईपीओ के जरिए 20,557 करोड़ रुपये जुटाए लेकिन निवेशकों को अपने दम पर छोड़ दिया और अब निवेशकों की मेहनत की कमाई में सेंध लग रही है।

ये भी पढ़ें   इन महिलाओं को सरकार देती है 6 हजार रुपये, ऐसे उठाएं योजना का लाभ..