May 27, 2022

गुड न्यूज! PF Account है तो, Free में मिलेगा 7 लाख रूपये का बीमा, जानिए विस्तार से..

pf money

डेस्क : अगर आपके पास पीएफ अकाउंट है तो यह खबर आपके काम आ सकती है। सरकार पीएफ खाताधारक को ब्याज के साथ-साथ कई अन्य सुविधाएं भी दे रही है। पीएफ खाताधारकों को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करने के लिए बीमा के साथ-साथ कई अन्य सुविधाएं भी दी जाती हैं, जो खाताधारकों को वित्तीय सुरक्षा और सुविधाएं प्रदान करती हैं। कर्मचारी भविष्य निधि ने 2021-22 के लिए ईपीएफ जमा पर ब्याज दर को घटाकर 8.1 प्रतिशत कर दिया है।

इसके बाद भी पीएफ खाते में निवेश पर मिलने वाला ब्याज अन्य बचत योजनाओं के मुकाबले काफी बेहतर है। हालांकि, भारत सरकार ने पीएफ जमा पर ब्याज दर कम करके शेयरधारकों को झटका दिया है, लेकिन पीएफ खाता अभी भी फायदेमंद है। खास बात यह है कि पीएफ खाता खुलने के बाद कर्मचारी जमा लिंक्ड बीमा योजना के तहत शेयरधारकों को सात लाख तक का मुफ्त बीमा मिलता है। इस योजना का उद्देश्य पीएफ खाताधारक की मृत्यु के बाद परिवार के सदस्यों को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करना है। पहले यह बीमा राशि 6 ​​लाख होती थी, जिसे बढ़ाकर 7 लाख कर दिया गया है।

बंद खाते पर ब्याज मिलता रहेगा : पीएफ खाताधारकों को मुफ्त बीमा के साथ-साथ बंद खाते पर ब्याज भी मिलता है। अगर आपका पीएफ खाता तीन साल से अधिक समय से निष्क्रिय है, तो आपको ब्याज मिलता रहेगा। ईपीएफओ ने यह बदलाव 2016 में किया है। इससे पहले पीएफ खाता तीन साल तक निष्क्रिय रहने पर ब्याज नहीं मिलता था। पीएफ खाताधारक 58 वर्ष की आयु के बाद पेंशन पाने का हकदार है। इसके लिए पीएफ खाते में हर महीने कम से कम 15 साल तक योगदान करना जरूरी है। ईपीएफओ के नियमों के तहत कर्मचारियों को सैलरी के साथ दिए जाने वाले मूल वेतन का 12 फीसदी पीएफ खाते में जाता है. कंपनी भी इसमें योगदान करती है। इसमें से 3.67 फीसदी कर्मचारियों के पीएफ खाते में जाता है, जबकि 8.33 फीसदी पेंशन योजना में जाता है.

ऋण ले सकते हैं : आपात स्थिति में पीएफ खाताधारकों को कर्ज भी आसानी से मिल जाता है। इस पर उसे पीएफ जमा पर मिलने वाले ब्याज में से एक से अधिक ब्याज का भुगतान करना होगा। यह कर्ज तीन साल के लिए है। होम लोन का भुगतान करने के लिए आप अपने पीएफ खाते में जमा राशि का 90% तक निकाल सकते हैं। इसका उपयोग जमीन खरीदने के लिए भी किया जा सकता है। अगर कर्मचारी ने 5 साल तक किसी कंपनी में अपनी सेवाएं दी हैं, तो पीएफ खाते से निकासी पर कोई टैक्स नहीं लगता है। इससे कम पर रोजगार देने पर पीएफ निकासी पर 10 फीसदी टीडीएस के साथ टैक्स देना होता है। साथ ही पीएफ खाते में निवेश करने पर टैक्स सेविंग भी होती है। आप पुराने टैक्स स्लैब में अपने पीएफ खाते में सालाना 1.50 लाख रुपये तक का योगदान करके आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर छूट प्राप्त कर सकते हैं। नए स्लैम में यह सुविधा नहीं है