लालू यादव पर आरोप लगाने वाले भाजपा विधायक ने अपनी पहली कमाई से खरीदी भैंस , राम मंदिर निर्माण में भी दिया चंदा…

Lalan Paswan

लालू यादव का कॉल रिकॉर्डिंग वायरल कर चर्चा में आए भागलपुर जिले के पीरपैंती विधानसभा से भाजपा विधायक ललन पासवान विधायक बनने के बाद से ही चर्चा में बने रहते हैं। अपनी पहली सैलरी से भैंस लेने की बात हो या विधानसभा के सामने अपनी स्कोर्पियो गाड़ी की डिलीवरी की मांग रखना। ललन पासवान किसी न किसी तरह से मीडिया के नजरों में बने ही रहते हैं।

पहली तनख्वाह से खरीदी भैंस- सोशल मीडिया से अपने हर गतिविधि की जानकारी देने वाले ललन पासवान ने अपने फेसबुक एकाउंट से भैंस खरीदने की जानकारी सबको दी थी। ललन पासवान ने यह भैंस 60 हजार रुपये में खरीदी थी और इसका भुगतान उन्होंने अपने पहले तनख्वाह से किया था। ललन पासवान का कहना है कि उनका गाय-भैंस से विशेष लगाव रहा है , और उनकी यह इच्छा थी कि वो अपनी पहली तनख्वाह से एक भैंस खरीदे। उन्होंने राम मंदिर निर्माण के लिए भी 51 हजार रुपये का चंदा दिया था।

स्कोर्पियो खरीद कर आए थे चर्चा में- ललन पासवान उस वक्त भी चर्चा में आए थे, जब उन्होंने अपनी पहली सैलरी से ही स्कॉर्पियो भी खरीदी थी। उस वक्त ललन पासवान चर्चा में इसलिए आए थे, क्योंकि इन्होंने शोरूम मालिक से एक अजीब डिमांड रखते हुए कहा था कि वह स्कॉर्पियो की डिलीवरी बिहार विधानसभा के सामने ही लेंगे। इसके बाद शोरूम के मालिक ने स्कॉर्पियो की डिलीवरी उन्हें बिहार विधानसभा के सामने ले जाकर दी थी। इस प्रकरण के बाद ललन पासवान खासे चर्चा में आ गए थे।

लालू यादव पर लगाया था विधायक खरीदने का आरोप- बिहार विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद पासवान ने लालू यादव का एक कॉल रिकॉर्डिंग जारी करते हुए कहा था कि लालू यादव सरकार गिराने के लिए भाजपा विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रहे हैं। ललन पासवान के द्वारा जो कॉल रिकॉर्डिंग जारी किया गया था, उसके मुताबिक लालू यादव ने उन्हें कॉल करके एनडीए के खिलाफ होने की बात कही थी। इस रिकॉर्डिंग के मीडिया में जारी होने के बाद लालू प्रसाद यादव और पूरी राजद बैकफुट पर आ गए थे। कॉल रिकॉर्डिंग के सामने आने के बाद लालू यादव को जेल में मिलने वाली रियायतों को भी कम कर दिया गया था।

You cannot copy content of this page