बेगूसराय में जल पहुचने बाला पाइप लगाए बगैर ही घरों में लगाया नल, ठीकेदार की मनमानी

Nal Jal Yojana

बेगूसराय : बेगूसराय के मंझौल में जल नल योजनाओं की क्रियान्वयन में घोर अनियमितता बरती जा रही है। आलम यह है कि कुछ जगहों पर पानी पहुंची तो कुछ जगहों तक पाइप बिछाने का भी काम भी पूरा नहीं हो पाया है। मंझौल के चार पंचायत व पबरा पंचायत के करीब दर्जन भर वार्ड के सैंकड़ों घर नल जल योजना की लाभ से अब भी महरूम है।

वाटर सप्लाई का पाइप बिना बिछाए ही पबरा में दर्जनों घरों में लगाया टोटी : आपको यह जानकर और भी आश्चर्य होगा कि ठीकेदार के मनमाने रवैया से बिना मेन लाइन सप्लाई वाटर का पाइप बिछाए ही पबरा पंचायत के वार्ड सात व दस के दर्जनों घरों में शोभा की वस्तु स्वरूप महीनों पहले नल का टोटी लगा दिया गया । उक्त टोटी तक पानी पहुचाने के लिए महीनों से पाइप रखा है। बिहार सरकार की अतिमहत्वाकांक्षी योजना सात निश्चय योजना के हर घर नल का जल क्षेत्र के सैकड़ों घरों तक नहीं पहुंच रहा है। अनुमंडल मुख्ययालय मंझौल के पांच पंचायतों में लगभग सभी पंचायत में कमोवेश ऐसे हालात हैं । कि दर्जनों घर तक अभी भी नल का जल नहीं पहुंच सका है।

जनप्रतिनिधियों के द्वारा नहीं ली जा रही जल नल के कार्यों में रुची : बिहार के सरकार के आला अधिकारियों के लगातार निर्देश के बाबजूद जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। चेरिया बरियारपुर प्रखण्ड क्षेत्र के पबरा पंचायत में तो संवेदक ने अजब गजब तरीके से योजना को क्रियान्वित करने की कोशिश की है। जहां गाँव मे वाटर सप्लाई होने बाले मेन लाइन से पाईप का कनेशक्शन घरों तक पहुंचाये बगैर ही दर्जनों घरों पर नल का टोटी महीनों पहले लगा दिया । इस संदर्भ में ग्रामीण सौरभ कुमार , रवि कुमार , कृष्णा चौधरी आदि ने बताया कि महीनों पहले घरों के आगे नल का टोटी लगा दिया गया है। परन्तु अभी तक पानी सप्लाई नहीं किया जा रहा है। जबकि इसी गांव के अन्य कई वार्डों की जनता को नल का जल मिल रहा है । इस सम्बंध में लोगों ने बताया कि गाँव के मुखिया सहित अन्य जनप्रतिनिधियों का हर घर नल का जल पहुचाने बाले कामों में कोई रुचि नहीं दिख रहा है। इसीलिए ठीकेदार मनमानी कर रहा है। महीनों पहले वार्ड दस और सात में अधिकांश घरों में नल का टोटी लगा दिया गया है। सैंकड़ों मीटर पहले से पानी का सप्लाई पाइप नहीं जोड़ जाने के कारण पानी पीने को नहीं मिल रहा है। इस सम्बंध में जब स्थानीय जेई से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पबरा पंचायत में सभी जगह पानी सप्लाय किया जा रहा है। मतलब जेई को पता भी नहीं है कि कहाँ पानी पहुंचा और नहीं ।

सरकारी समय सीमा समाप्त होने के बाद भी नहीं दिख रही तेजी : जब सरकारी समय पहले खत्म हो चुकी है। अभी सरकार के द्वारा बढाई गयी समय सीमा भी खत्म होने को है तब भी कार्यों में तेजी नहीं दिख रही है। ठीकेदार स्थानीय जनप्रतिनिधियों और विभागीय अधिकारियों की संलिप्तता से जनता की शिकायतें भी दब जा रही है। ऐसे में कई ग्रामीणों ने बताया कि जहां जहां पानी का सप्लाई किया जा रहा है वैसे जगहों से शिकायत के निपटारे में भी विभागीय अधिकारियों की खासा दिलचस्पी नहीं रहती है।

एक्सक्यूटिव इंजीनियर ने कहा ठीकेदार से पूछतें हैं क्यों नहीं हुआ वाटर कनेक्शन पीएचईडी विभाग के एक्सक्यूटिव इंजीनियर हैदर अली से इस बाबत जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि किसी कारणवश विरोध होने के कारण पाइप नहीं जोड़ा गया होगा। इस पर उनको किसी भी प्रकार का स्थानीय विरोध नहीं बल्कि ठीकेदार के कार्यशैली के कारण महीनों से पाइप गिरा कर न जोड़े जाने की बात बताई गई तो उन्होंने कहा कि ठीकेदार से स्पस्टीकरण मांगते हैं और जल्द काम करने का निर्देश दिया जा रहा है।

You may have missed

You cannot copy content of this page