प्रदेश में जारी शीतलहर के बीच इंटरमीडिएट की परीक्षा को लेकर बोर्ड ने दिया बड़ा आदेश

12th

डेस्क : दरअसल बिहार बोर्ड द्वारा आयोजित साल 2021 के इंटर परीक्षा को कदाचार मुक्त करवाने को लेकर परीक्षा में भाग लेने बाले छात्र छात्राओं को परीक्षा जुता पहन कर आने पर रोक लगा दिया। बताते चलें कि एक फ़रवरी से बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से इंटरमीडियेट परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है.

जिसका समापन 13 फ़रवरी को होगा। इसके पहले समिति की ओर से यह निर्देश जारी किया गया था की परीक्षार्थियों को जूता मोजा पहनकर परीक्षा केंद्र पर आने की मनाही होगी । परन्तु बोर्ड ने अपने इस आदेश में ठण्ड को देखते हुए संसोधन कर जुता मौजा पहनकर परीक्षा में भाग लेने की छूट दे दी। ठंड में बोर्ड ने छात्रों को इंटरमीडिएट की परीक्षा में जुता पहनकर आने पर रोक लगा दिया था। बोर्ड के इस फैसले का राज्य भर में किरकिरी हो रहा था । अब समिति की ओर से आज जो निर्देश जारी किया गया है. उसमें कहा गया है की परीक्षार्थी जूता मोजा पहनकर परीक्षा देने आ सकते हैं. कहा गया है की राज्य में जारी शीतलहर के कारण यह निर्णय लिया गया है. समिति के इस निर्णय से परीक्षार्थियों को राहत मिली है.

बिहार भर में 1473 केंद्रों पर आयोजित होगी परीक्षा : बता दें, इसबार इंटर परीक्षा में 13 लाख 50 हजार 507 परीक्षार्थी शामिल होंगे। इसमें सबसे ज्यादा कला संकाय में 7 लाख 30 हजार 569 परीक्षार्थी हैं। विज्ञान संकाय में पांच लाख 45 हजार 401, वाणिज्य संकाय में 74 हजार 24 परीक्षार्थी शामिल होंगे। पूरे प्रदेश में 1473 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं।

You cannot copy content of this page