बेगूसराय के खेत में बैगन के बीच लहलहा रहा करोड़ों रुपये का अफीम , पुलिस ने किया …

Afim

न्यूज डेस्क : बेगूसराय में बैगन के खेतों के बीचोबीच अफीम की खेती का पुलिस ने भण्डाफोर कर दिया। खेत में लगे अफीम की कीमत करोड़ों रुपये में आंका जा रहा है। जिसके बाद खेत में लगे अफीम को भी पुलिस ने जला दिया । मामला जिले के गढ़पुरा थाना क्षेत्र का है। जहां थाना क्षेत्र के मालीपुर गांव के समीप बहियार के एक खेत में अफीम की खेती किए जाने का मामला उजागर होते ही क्षेत्र में लोग आवाक रह गए। मिली जानकारी के अनुसार जिस खेत में अफीम की खेती हो रही है। वह खेत मालीपुर के मोहम्मद जाकिर है।

उक्त खेत ठेका पर लेकर मालीपुर का ही राम कुमार महतो खेती बारी कर रहा था। खेत में अफीम की खेती किए जाने की गुप्त सूचना पुलिस को मिली थी , सूचना मिलते ही शुक्रवार की रात डीएसपी बखरी ओम प्रकाश के नेतृत्व में पुलिस निरीक्षक संजय कुमार सिंह, थानाध्यक्ष प्रतोष कुमार दल बल के साथ खेत पर पहुंच गए तथा छानबीन शुरू कर दी। उसके बाद रात से ही पुलिस बल वहां कैंप करने लगी। करीब 1 बीघा के खेत में अफीम के फसल के साथ सब्जी की खेती भी किया गया था। जिसे सुरक्षा के दृष्टिकोण से चारों तरफ से प्लास्टिक के बने नेट से घेराबंदी की गई थी।

वही अफीम के इस खेत के चारों तरफ दूसरे किसानों का गन्ना का फसल लगा हुआ था। गन्ना का फसल कट जाने के कारण अफीम का खेत पूरी तरह से दिखने लगा। जिसकी सूचना गुप्त रूप से पुलिस को दी गई। सूचना मिलते ही पुलिस सक्रिय हो गई तथा अफीम के खेत पर पहुंच कर पुलिस अपने प्रक्रिया में जुट गई है। बताया गया कि अफीम के फल पकने लगे हैं। जिसमें पोस्ता दाना लगभग तैयार हो चुका है। खेत मे लगे अफीम की कीमत लाखों में बताई जा रही है। इसका नशा के साथ साथ अन्य प्रकार का उपयोग होता है। हालांकि गढ़पुरा थाना क्षेत्र में हो रहे अफीम की खेती पर कई प्रश्न लाजमी हैं।

अफीम बोए जाने के समय से पकने के समय तक गढ़पुरा पुलिस को इसकी भनक ना थाना के कमजोर मुखबिरी तंत्र का परिचायक जान पड़ता है। बहरहाल मामला जो भी जो लेकिन अफीम की खेत का भण्डाफोर होना जहां बेगूसराय पुलिस विभाग के लिए सफलता की बात है। वहीं गढ़पुरा थाना के थानाध्यक्ष के लिए मुखबिर तंत्र को मजबूत करने का मौका मिला है ।

You cannot copy content of this page