देश में Electric Car की कीमत होगी पेट्रोल वाहनों के बराबर, Nitin Gadkari ने किया फैसला..

Electric Car

डेस्क : केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने ऐलान किया है कि आने वाले एक साल के भीतर-भीतर इलेक्ट्रिक वाहनों की कीमत पेट्रोल कारों की लागत के बराबर होगी। केंद्रीय मंत्री द्वारा इस ख़बर के एलान से बाइक चलाने वालों को बहुत राहत मिलने वाली है।

इस मामले में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है क‍ि प्रौद्योगिकी और हरित ईंधन में तेजी से प्रगति से इलेक्ट्रिक ऑटोमोबाइल की लागत कम हो जाएगी। इसका मतलब इसका फायदा अब आम लोगों को होगा। आने वाले समय में इलेक्ट्रिक व्हीकल की कीमत पेट्रोल से चलने वाले वाहनों के जितनी हो जायेगी। केंद्रीय मंत्री ने बताया आने वाले समय में यह एक क्रांत‍ि ला सकता है।

प्रदूषण स्तर भी होगा कम : कीमत के अलावा न‍ित‍िन गडकरी सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, 2022-23 के लिए अनुदान की मांगों पर लोकसभा में जवाब देते हुए जानकारी दी कि “प्रभावी स्वदेशी ईंधन को स्थानांतरित करने की जरूरत है, इलेक्‍ट्र‍िक ईंधन जल्द वास्तविकता बन जाएगा। इससे प्रदूषण के स्‍तर में कमी आएगी। भारत ही नहीं पूरी दुनिया भर में प्रदूषण एक बड़ी चुनौती के रूप में सामने है।”

सांसदो से आग्रह : इलेक्ट्रिक कार के विषय में बात करते हुए केंद्रीय मंत्री गडकरी ने सांसदों से भी हाइड्रोजन टेक्‍न‍िक अपनाने का आग्रह क‍िया। उन्‍होंने सांसदों को अपने-अपने क्षेत्र में सीवेज के पानी को हरित हाइड्रोजन बनाने की पहल करें। साथ ही उन्होंने बताया हाइड्रोजन जल्द सबसे सस्ता ईंधन विकल्प होगा। नितिन गडकरी ने कहा, ‘लिथियम-आयन बैटरी की कीमत में तेजी से कमी आ रही है। हम जिंक-आयन, एल्यूमीनियम-आयन, सोडियम-आयन बैटरी को व‍िकस‍ित कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें   Tata Punch : टाटा मोटर्स की इस SUV की बड़ी डिमांड- 5 खासियतों की वजह से तुरंत खरीद लेंगे आप..

अध‍िकतम दो साल में इलेक्ट्रिक स्कूटर, कार, ऑटो रिक्शा की कीमत पेट्रोल से चलने वाले स्कूटर, कार, ऑटोरिक्शा के बराबर होगी। मंत्रालय के अनुसार, ‘इसका फायदा यह होगा यद‍ि आप आज पेट्रोल पर 100 रुपये खर्च कर रहे हैं तो इलेक्ट्रिक वाहन को चलाने में यह लागत घटकर 10 रुपये आ जाएगी।’ गौरतलब है कि कुछ द‍िन पहले ही न‍ित‍िन गडकरी ने ग्रीन हाईड्रोजन फ्यूल कार लॉन्‍च क‍िया था। मालूम हो की केंद्रीय मंत्री इलेक्ट्रिक व्हीकल को लगातार बढ़ावा देते आए हैं।