बिना मास्क लगाए चुनाव प्रचार में निकलना नेताजी को पर गया महंगा, जाने पत्रकार द्वारा थपरियाने की हकीकत

Without Mask

डेस्क : सोशल मीडिया पर इन दिनो एक वीडियो काफी तेजगति से वायरल हो रहा है, जिसमे एक पत्रकार दबंगई करते दिख रहा है। इस वीडियो को देखने के बाद कई लोगों द्वारा पत्रकारों को बुरा-भला कहा जा रहा हैं। पत्रकार आदेश रावल ने अपने ट्विटर हैंडल से इस वीडियो को साझा करते हुए लिखा, ‘पत्रकारों से दो गज की दूरी, और मास्क है ज़रूरी।

’ इसी ट्वीट को रिट्वीट करते हुए तहसीन पूनावाला ने लिखा कि ‘यह पत्रकार नहीं, गुंडा है जो अपने दर्शकों को वही परोस रहा जो वो चाहते हैं।’ इस वीडियो में एक पत्रकार मुखिया जी से कहता है कि इस जगह पर लाइट कम है, इसीलिए फोटोशूट के लिए पीछे चलिए। इसके बाद वो साइड में ले जाकर कहता है, इधर हमलोग फोटो लेते हैं। यहां फोटोशूट होगा। फिर पीछे खेत के पास एकांत में मुखिया जी को ले जाता है, और पत्रकार चार थपड़ मुखिया जी को जड़ देता है। फिर कहता है मुखिया हो या कोई भी मास्क पहनना पड़ेगा। उसके बाद उन्हें ज़िंदाबाद का नारा लगाते हुए लोगों बीच ले आता है।

तहसीन पूनावाला ने इस वीडियो को रिट्वीट करते हुए लिखा कि यह गलत है और पुलिस को इस पर में कार्रवाई करनी चाहिए। इसके अलावा उन्होंने ब्रैकेट में यह भी लिखा कि यदि ये वास्तविक है, मजाकिया वीडियो नहीं है तो। इसी प्रकार कई ओर यूज़र्स ने इस वीडियो को रिट्वीट करते हुए लिखा कैसे पत्रकार ने एक मुखिया की पिटाई कर दी। आइए अब हम आपको बतातें हैं कि क्या है इस वीडियो की सच्चाई। दरअसल यह वीडियो मनोरंजन के लिए बनाए गए थे। और इसके सभी किदार एक कलाकार हैं। हर्ष राजपूत नाम के इस यूट्यूब चैनल के इस वीडियो में साफ तौर पर यह लिखा गया है कि यह वीडियो स्क्रिप्टेड है और इसे मनोरंजन के उद्देश्य से बनाया गया है।

हर्ष राजपूत अधिकतर रिपोर्टर बनके इस प्रकार के कोरोना के खिलाफ भीलोगों को मज़ाकिया अंदाज़ में जागरूक करते हुए विडीयोज अपलोड करते रहते रहे हैं । इस बार हर्ष, पंचायत चुनाव वाला मुद्दा उठाया। इसी बीच वे एक ‘मुखिया प्रत्याशी’ से बात करते हैं जो इसी प्रोग्राम का ही हिस्सा था। बतादें कि हर्ष एक यूट्यूबर हैं उनके चैनल पर करीब 7 लाख सब्सक्राइबर्स हैं। हर्ष के प्रशंसक उनके ऐसे मज़ाकिया स्टाइल के लिए काफी पसंद करते हैं।

You may have missed

You cannot copy content of this page