किसान को मिला 6.29 कैरेट का इतना बड़ा हीरा, की रातों-रात अमीर हो गया

kisan ko mila heera

डेस्क : ग्राम जरुआपुर निवासी सुनील कुमार (40) को उथले खदान क्षेत्र से 6.29 कैरेट रत्न गुणवत्ता का हीरा मिला है। इस हीरे की कीमत 30 लाख रुपए बताई जा रही है। सुनील अपने दोस्तों के साथ कलेक्ट्रेट स्थित हीरा कार्यालय में आया है और हीरा जमा किया है।

कार्यालय के हीरा पारखी अनुपम सिंह ने बताया कि 6.29 कैरेट वजनी हीरा गुणवत्ता के मामले में बहुत अच्छा है. इस हीरे को नीलामी के लिए रखा जाएगा। कहा जाता है कि सुनील ने दो साल पहले भी हीरे की खान लगाई थी, लेकिन तब कोई सफलता नहीं मिली।बताया जाता है कि उसने 5 अन्य साथियों के साथ मिलकर हीरा कार्यालय से 10 गुणा 10 की हीरे की खदान खोदने के लिए एक निजी फार्म में लीज पर लिया था।

आज उसी में खुदाई के दौरान इस चमकीले प्रकार का हीरा मिला है। किसान ने हीरा कलेक्ट्रेट स्थित हीरा कार्यालय में जमा करा दिया है। हीरा कार्यालय पन्ना के हीरा पारखी अनुपम सिंह ने बताया कि एक हीरा है जिसका वजन 6.29 कैरेट है.कहा जा रहा है कि हीरा रत्न गुणवत्ता का है, जिसकी अच्छी कीमत मिलने की उम्मीद है, लेकिन इसकी कीमत अभी नहीं बताई जा सकती। हीरा अधिकारी रवि पटेल ने बताया कि इस हीरे को कार्यालय में जमा करा दिया गया है. इसे अगली नीलामी में रखा जाएगा। नीलामी के बाद प्राप्त राशि से 11.5 प्रतिशत की रॉयल्टी काटकर शेष राशि हीरा धारक के खाते में भेज दी जाएगी।

हीरा धारक सुनील कुमार ने बताया कि आर्थिक तंगी को दूर करने के लिए वह दो साल से हीरे की खदान लगाकर हीरे की तलाश कर रहा था, लेकिन कुछ नहीं हो सका.मेरे पास ढाई एकड़ जमीन है, जिससे परिवार का खर्चा चलाना बहुत मुश्किल है। हीरा पाकर सुनील बेहद खुश है। उनका कहना है कि जुगल किशोर जी ने उनकी प्रार्थना सुन ली है। उन्हीं की वजह से मुझे यह हीरा मिला है। अब हम अपने परिवार और बच्चों की उचित देखभाल कर पाएंगे। आर्थिक तंगी के कारण हमें अपने बच्चों की पढ़ाई की चिंता सताती थी।

ये भी पढ़ें   गजब ! 1 करोड़ में बिक रही है ये छिपकली, जल्दी से खोजिए कही आपके घर में तो नहीं है..

यहां पहले भी चमकी है किसानों की किस्मत… कुछ समय पहले मध्य प्रदेश के पन्ना में हीरे की खदान में खुदाई के दौरान एक किसान को लाखों का हीरा मिला था. जो करीब 11.88 कैरेट का हीरा था और इसकी अनुमानित कीमत 50 लाख रुपए बताई गई थी।इस संबंध में उस समय हीरा अधिकारी रवि पटेल ने बताया था कि किसान प्रताप सिंह यादव को यह हीरा जिले के पट्टी क्षेत्र की एक खदान से मिला है. प्रताप मजदूरी का काम भी करता है। इस हीरे को आगामी नीलामी में बिक्री के लिए रखा जाएगा और इसकी कीमत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार तय की जाएगी.गरीबी से परेशान कुएं निवासी प्रताप सिंह यादव ने फरवरी में सरकारी हीरा कार्यालय में आवेदन कर 10 गुणा 10 की हीरे की खदान खोदने के लिए लीज मंजूर की थी, जिसमें उन्होंने दिन-रात मेहनत की और आज उनकी भाग्य बदल गया।

एक चर्चा में प्रताप सिंह यादव ने कहा था कि मैं एक छोटी सी कृषि भूमि वाला गरीब आदमी हूं। मैं भी मजदूरी का काम करता हूं। मैं पिछले तीन महीने से इस खदान में कड़ी मेहनत कर रहा हूं और इस हीरे को प्राप्त कर हीरा कार्यालय में जमा कर दिया। इस हीरे की नीलामी से मुझे जो भी पैसा मिलेगा, मैं उसका उपयोग व्यवसाय स्थापित करने और अपने बच्चों की शिक्षा के लिए करूंगा।निजी अनुमान के मुताबिक हीरे की कीमत 50 लाख रुपये से ज्यादा आंकी गई है. अधिकारियों ने कहा कि कच्चे हीरे की नीलामी की जाएगी और इससे होने वाली आय सरकारी रॉयल्टी और करों की कटौती के बाद किसान को दी जाएगी।