बेटी को हेलिकॉप्टर से विदा कर सपना किया पूरा, पिता ने 17 साल पहले किया था अपनी लाडली से वादा..

Helicopter dulhan

डेस्क: हर मां-बाप अपने बेटी की शादी को लेकर शुरू से ही चिंतित रहते हैं, किसी बढ़िया घर में शादी करके जिंदगी में कभी कोई तकलीफ होने नहीं देंगे, लेकिन कुछ मां बाप ऐसे भी होते हैं, जो अपनी बेटी को सपनों को पूरा करने के लिए कुछ भी कर देते हैं, कुछ इसी प्रकार के बकाया मामला इन दिनों सोशल मीडिया पर सुर्खियों में, दरअसल 4 साल पहले एक बेटी ने अपने पिता से वादा किया था कि मुझे भी आप हेलीकॉप्टर से विदा कीजिएगा, पिता ने उसे मजाक में न लेते हुए सीरियस में आज 17 साल बाद अपनी बेटी को हेलीकॉप्टर से विदा किया,

बता दें कि यह पूरा बकाया मामला राजस्थान के भरतपुर से आया है, जहां एक पिता ने अपनी बेटी के सपने को पूरा करते हुए उसकी विदाई हेलिकॉप्टर से की। बेटी का सपना था शादी के बाद पहली बार वह अपने ससुराल हेलिकॉप्टर से जाए। बेटी के सपने को आज उनके पिता ने पूरा किया। पिपला गांव में हेलिकॉप्टर को देखने के लिए पूरा गांव इकठ्ठा हो गया। खेत में हेलीपैड बनाया गया जहां फायरबिग्रेड और कई पुलिसकर्मी तैनात रहे।

बता दे की पिपला गांव के पूर्व सरपंच राजाराम की बेटी 21 साल की दुर्गेश का सपना आज साकार हुआ। विजेंद्र उत्तर प्रदेश में हाथरस जिले के खिरनी नगला इलाके का रहने वाला है। पिता ने अपनी बेटी के सपने को पूरा करने के लिए दिल्ली से 2 लाख 10 हजार रुपये किराया देकर हेलिकॉप्टर बुलाया गया।

पिता राजाराम ने बताया ” जब दुर्गेश 2 साल की थी तो उसकी मां का देहांत हो गया था। तब से उन्होंने अपनी बेटी को मां-बाप दोनों का प्यार दिया है। दुर्गेश का सपना था की उसकी विदाई हेलिकॉप्टर से हो। आज बेटी का सपना पूरा करने का समय आया जिसे उन्होंने बखूबी निभाया। दुर्गेश बहुत छोटी थी तब उसने अपने पिता को हेलिकॉप्टर से विदाई करने को कहा था राजाराम ने तब दुर्गेश से वादा किया था जिसे आज उन्होंने पूरा किया।

बेटी दुर्गेश ने बताया जब वह 4 साल की थी तो अपने पिता के साथ एक बार कहीं जा रही थी। तब हेलिकॉप्टर को उड़ते देखा तो उसने अपने पिता से पूछा की इसमें क्या होता है, तब पिता ने बताया की यह हेलिकॉप्टर है इसमें दूल्हा-दुल्हन जाते हैं। तब दुर्गेश ने अपने पिता से कहा था मेरी भी विदाई हेलिकॉप्टर से करवाना तब राजाराम ने अपनी बेटी से वादा किया था जिसे आज उन्होंने पूरा किया।

You cannot copy content of this page