बेगूसराय : गंगा नदी पर बने मुंगेर पुल सड़क पर अगले वर्ष से यातायात शुरू , काम जोरों शोरों पर

Munger Bridge

बिहार के औद्योगिक जिला बेगूसराय और ऐतिहासिक जिला व पूर्वोत्तर क्षेत्र से मुंगेर को जोड़ने वाली कर्ण सेतु कार्य अब अंतिम चरणों पर है। सरकारी विभागों के अनुसार 2022 तक इस पुल पर गाड़ियों का आवागमन शुरू हो जाएगा। ज्ञात, हो कि इस पुल सड़क को इसी वर्ष यानी मई 2021 तक तैयार कर आवागमन शुरू करने की समय सीमा तय की गयी है। लेकिन सूत्रों का कहना है कि मुंगेर जिला में एप्रोच रोड बनाने के लिए छह में से पांच गांव के जमीन अधिग्रहण की समस्या सुलझ गयी थी। बाद में जिला प्रशासन की तरफ से जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया पर सवाल उठाने से यह काम रुक गया और करीब ढाई किमी लंबाई में एप्रोच बनाने का पेच फंस कर ही रह गया। लेकिन अब सभी मामला को सुलझा लिया गया है।

करीब 18 साल से अटका हुआ है इस पुल का काम मुंगेर घाट के रेल सह सड़क पुल का काम करीब 18 साल से अटका हुआ है। इसका शिलान्यास 26 दिसंबर, 2002 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने किया था। जबकी, रेलगाड़ी परिचालन के लिए मार्च 2016 को ही खोला दिया गया था। अंतत: 11 अप्रैल 2016 को रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा द्वारा बेगूसराय-जमालपुर डेमू ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर इसे पैसेंजर ट्रेनों के लिए खोला गया। करीब 921 करोड़ रुपये की लागत से इस पुल का निर्माण 2007 में ही पूरा होना था। बाद में जमीन अधिग्रहण की समस्या के कारण इसकी लागत में बढ़ोतरी हो गयी और 16 नवंबर, 2015 को पुल के निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने 2774 करोड़ रुपये की स्वीकृति दी थी।

स्वतंत्रा सेनानी के नाम पर रखा गया इस पुल का नाम रेलवे के संचार व राज्य मंत्री श्री मनोज सिन्हा ने घोषणा की कि इस पुल का नाम श्री “श्रीकृष्ण सेतु”, महान स्वतंत्रता सेनानी, और आधुनिक बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री और वास्तुकार “बिहार केशरी” डॉ श्रीकृष्ण सिन्हा “श्री बाबू” के सम्मान में रखा गया। 

पुल बन जाने से क्या-क्या होगा फायदा एप्रोच रोड बनने और पुल पर आवागमन शुरू होने से मुंगेर का जुड़ाव पूर्वी बिहार और कोसी क्षेत्र से हो जायेगा। खगड़िया और बेगूसराय की दूरी मुंगेर से महज 30 से 40 किलोमीटर ही होगी। मुंगेर से खगड़िया और बेगूसराय का सफर कुछ मिनटों में तय हो सकेगा। फिलहाल मुंगेर के लोगों को सड़क मार्ग से 160-170 किलोमीटर की दूरी तय कर खगड़िया और बेगूसराय जाना पड़ता है। जबकी, यह पुल के उत्तर छोर पर सबदलपुर जंक्शन को साहेबपुर कमाल जंक्शन और खगड़िया जंक्शन के जो की पूर्व मध्य रेलवे (ECR) के बरौनी-कटिहार सेक्शन पर स्थित है। यह पुल बेगूसराय और खगड़िया जिलों को संभागीय मुख्यालय मुंगेर शहर से भी जोड़ता है।

अभी फिलहाल 2 जोड़ी मेमो ट्रेनों को चलाया जा रहा है मुंगेर रेल पटरियों का कार्य 2016 में ही पूरा हो चुका था। लेकिन अभी तक सही ढंग से रेल परिचालन नहीं हो रहा है। बेगूसराय खगड़िया और जमालपुर के लिए मात्र 2 जोड़ी मेमो ट्रेन को ही चलाया जा रहा है। जबकि ग्रीष्मकालीन के लिए कभी-कभी स्पेशल ट्रेनों को चलाया जाता है।

You cannot copy content of this page