बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा सरकार के विधि मंत्री व जिला के प्रभारी मंत्री डॉक्टर शमीम अहमद ने किया

FLood

तेघरा (बेगूसराय) पिछले 10 दिनों से गंगा नदी की जलस्तर में लगातार वृद्धि से तेघरा अंतर्गत दियारा क्षेत्र के कई गांव के हजारों लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। निपानियां मधुरापुर, बरौनी 2 मघुरापुर बक्तर स्थान, मधुरापुर दक्षिण बारी टोला, मघुरापुर बिचला टोला, आधार पुर के बिनलपुर वार्ड संख्या 7 एवं रात गांव पंचायत के वार्ड संख्या 13 एवं 14 भगवानपुर चक्की समेत अन्य जगहों पर पूरा क्षेत्र टापू समान बना हुआ है।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के इलाकों के लोगों का जीवन अस्त व्यस्त हो गया है।क्षेत्र के हजारों पशुपालकों के समक्ष अपने पशुओं के लिए हरा चारा की किल्लत हो रही है। पूरे इलाके में बिजली काट दी गई है इससे शाम होते ही बाढ़ पीड़ितों को अंधेरे के साए में जीवन गुजर बसर करना पड़ता है। कई दिनों से बाढ़ पीड़ितों के जनप्रतिनिधियों द्वारा लगातार पदाधिकारियों को समस्याओं से अवगत करवाया गया लेकिन पदाधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों का केवल आश्वासन ही मिला व्यवस्था के नाम पर मात्र दो छोटी नाव एवं कुछ दवा मात्र उपलब्ध करवाई गई इसके सिवा अन्य किसी प्रकार की सरकारी सुविधा प्रदान नहीं मिल रही है।

शुक्रवार को बिहार सरकार के विधि मंत्री व जिला के प्रभारी मंत्री डॉ शमीम अहमद ने अधिकारियों की टीम के साथ प्रखंड के बाढ़ प्रभावित इलाके का दौड़ा किया मात्र रात गांव पंचायत मैं बाढ़ प्रीत इंतजार करते रह गए। लेकिन मंत्री जी का काफिला बछवारा की ओर चली गई।उन्होंने विभागीय अधिकारियों को वर्तमान में बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में पर्याप्त संख्या में नावों का परिचालन कराने, सामुदायिक किचन का संचालन करने, व्यवस्थित रूप से मेडिकल कैंप का संचालन करने, मवेशियों के लिए चारा एवं दवाइयां आदि की समुचित व्यवस्था के साथ ही लाइट की व्यवस्था करवाने का निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि सरकार के खजाने पर आपदा प्रभावित व्यक्तियों का पहला हक है इसीलिए उन्हें हर संभव राहत मुहैया करवाई जाएगी साथ में अनुमंडल पदाधिकारी राकेश कुमार, प्रखंड विकास पदाधिकारी संदीप कुमार पांडे, राजद के जिला अध्यक्ष मोहित यादव, सचिव कामदेव यादव, किसान नेता दिनेश सिंह, रविंद्र कुमार, के अलावे अन्य लोग शामिल थे।