सरकार की नीति के विरुद्ध किसान सलाहकारों ने खोला मोर्चा

तेघड़ा/बेगुसराय(अनंत कुमार): एक तरफ जहां सरकार कह रही है ,कि वह बिहार को आगे बढ़ाने में दिन दूना रात चौगुना काम कर रही है। वहीं दूसरी तरफ से कुछ सरकारी विभाग के कर्मचारी ही सरकार के विरुद्ध मोर्चा खोलना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में आज बेगूसराय जिला के तेघड़ा प्रखंड अंतर्गत, प्रखंड मुख्यालय के कृषि भवन के सामने, बिहार राज्य किसान सलाहकार संघ संयुक्त मोर्चा, के बैनर तले पूरे प्रखंड के किसान सलाहकारों ने बांह पर काली पट्टी लगाकर विरोध प्रदर्शन किया।

प्रदर्शन की अध्यक्षता तेघड़ा प्रखंड ,के प्रखंड अध्यक्ष, संजीव कुमार, सिंह ने किया ,उन्होंने प्रदर्शन को संबोधित करते हुए बताया कि सरकार के गलत नीति के कारण दमनात्मक नीति के कारण पिछले 10 वर्षों से कृषि विभाग के तकनीकी एवं गैर तकनीकी कार्य जो गैर विभागीय कार्य है, हम लोगों के द्वारा कराया जा रहा है। लेकिन सरकार हम लोगों को ना तो सरकारी कर्मी का दर्जा दे रही और ना ही संविदा कर्मी मान रही। सरकार के रवैए से त्रस्त होकर हम सभी सलाहकारों ने, हर खेत को पानी सर्वेक्षण कार्य को ठप करने का निर्णय लिया है, और 30 अगस्त तक कृषि विभाग के तकनीकी कार्य नहीं कर राज्य सरकार के आदेशानुसार केवल प्रचार प्रसार के कार्य करने का निर्णय लिया गया है,हम उसका भी विरोध करेंगे।

उन्होंने बताया कि हमारी कुछ प्रमुख मांगे हैं सरकार से जो निम्न है, मानदेय में वृद्धि ,पूर्णकालिक कर्मी का दर्जा, ई0पी0एफ0 कटौती सहित अन्य कई मांगें है। हमारी मांग नहीं माने जाने पर हम सभी किसान सलाहकार मजबूरन अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। जिसकी सारी जवाबदेही कृषि विभाग एवं बिहार सरकार की होगी ।इस एक दिवसीय विरोध प्रदर्शन में नीरज कुमार , अजीत कुमार सिंह, निलेश कुमार , सत्यानंद कुमार , संजय सिंह ,रवि कुमार आदि उपस्थित थे।