चुनावी घमासान : तेघड़ा व बछवाड़ा सीट से आधा दर्जन से अधिक उम्मीदवारों ने करवाया नामांकन

तेघड़ा/बेगुसराय : बुधवार को तेघड़ा अनुमंडल कार्यालय पर बिहार विधान सभा 2020 के नामांकन को लेकर उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किया। जिसमें 143 बछवाड़ा विधान सभा से कुल छः(6) उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया। जिसमे निर्दलीय उम्मीदवार शिव प्रकाश गरीब दास,युवा क्रांति पार्टी से अखिलेश कुमार,जनता दल राष्ट्रवादी पार्टी से ए0आर0आजाद,जनता पार्टी से कुंदन सिंह,निर्दलीय से गौतम झा,बहुजन मुक्ति मोर्चा से चंद्रदेव शर्मा।

जिसमें NDA गठबंधन के उम्मीदवार वीरेंद्र महतो,और 143 तेघड़ा विधान सभा से,(3) तीन उम्मीदवारों ने नामांकन करवाया जिसमे जनतांत्रिक गठबंधन के वीरेंद्र कुमार महतो ,निर्दलीय से अतुल कुमार एवं केदारनाथ भास्कर ने नामांकन करवाया। इन सभी नौ उम्मीदवारों के नामांकन की पुष्टि अनुमंडल निर्वाचन पदाधिकारी सह अनुमंडल पदाधिकारी तेघडा ,राकेश कुमार ने किया। वहीं अनुमंडल परिसर का माहौल पुरे दिन काफी गर्म रहा , हालांकि दो उम्मीदवार के नामांकन के बाद उनके समर्थकों में काफी उत्साह दिखा। जिसमें बछवारा से निर्दलीय उम्मीदवार शिव प्रकाश गरीबदास के नामांकन में सैकड़ों की संख्या में उनके समर्थक उपस्थित रहे, और उनके निकलते ही फूल माला से उन्हें ढक दिया गया

तेघड़ा विधानसभा से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार तथा तेघडा के पूर्व विधायक वीरेंद्र महतो के भी नामांकन के समय सैकड़ों समर्थक मौजूद रहे साथ ही राष्ट्रीय जनतांत्रिक के भारतीय जनता पार्टी के बेगूसराय जिला के जिला अध्यक्ष राज किशोर सिंह, वर्तमान विधान पार्षद सदस्य , सह ब्बिहार सरकार के मुख्य सचेतक ,रजनीश कुमार उपस्थित रहे ,पूर्व पुलिस पदाधिकारी सुनील कुमार मौजूद रहे ,साथ ही राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सैकड़ों समर्थक और तीनों घटक दल के नेता और कार्यकर्त्ता मौजूद रहे।

संबोधित करते हुए वीरेंद्र कुमार महतो ने बताया कि मेरे ऊपर जो क्षेत्र में नहीं रहने की बात है वह बेबुनियाद और निराधार है। मै क्षेत्र में रहूंगा और लोगों की सेवा तन, मन ,धन से करूंगा ,परंतु इस बात से नहीं मुंह मोड़ा जा सकता है कि पिछले 5 वर्षों तक जो उनका कार्यकाल था ,उसे यहां की जनता काफी नाराज है ।उनके नामांकन से बाहर निकले तो सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उर गयी। सरकार का जो आदेश है, गाइडलाइन है कि सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए नामांकन किया जाए ,लेकिन वहां पर ऐसा कुछ नहीं दिखा। सभी नामांकन करने वाले उम्मीदवारों ने अपने-अपने जीत की दावेदारी पेश की , सबों ने बताया कि क्षेत्र में शिक्षा ,रोजगार, विकास हमारा मुख्य मुद्दा होगा, लेकिन देखते हैं होता क्या है?