भगवानपुर : पत्रकार सचिदानंद नहीं रहे

Journalist Sachidanand

भगवानपुर (बेगूसराय) पूर्व पैक्स अध्यक्ष सह पत्रकार अभिषेक भारती के पिता करीब 65 वर्षीय अवकाश प्राप्त शिक्षक सह वरिष्ठ पत्रकार सच्चिदानंद राय के असामयिक निधन हो जाने के कारण उनके परिजनों में कोहराम मच गया. उक्त घटना से मृतक की पत्नी नीलम देवी सहित घर के सभी सदस्यों का रो रो कर बुरा हाल हो गया ।

दिवंगत पत्रकार सच्चिदानंद राय अपने पीछे तीन पुत्र के साथ भरा पूरा परिवार छोड़ गये। उनके निधन की खबर मिलते ही क्षेत्र के विभिन्न राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं सहित कई शिक्षाविद पासोपुर गांव स्थित उनके आवास पर पहुंच कर उनके पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित किए, वहीं इसकी सूचना मिलने पर अनुमंडल पत्रकार संघ के अनुमंडल अध्यक्ष शशिभूषण भारद्वाज, सुमित कुमार बबलू, विकास वागीश, अशोक सिंह, नागेंद्र सिंह सहित कई पत्रकार भी पहुंच कर उनके पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि देकर पीड़ित परिवार को सांत्वना दिया।

अपने समय के आदर्श शिक्षक व निर्भीक पत्रकार तथा व्यक्तित्व के धनी व प्रेरणा स्रोत स्मृति शेष 70 वर्षीय सच्चिदानंद राय की असामयिक निधन भगवानपुर प्रखंड के दामोदरपुर पंचायत अंतर्गत पासोपुर ग्राम के उनके निवास स्थान पर शनिवार की अहले सुबह हो गया। उनके निधन की सूचना मिलते ही पासो पुर ग्राम सहित पूरे क्षेत्रों में शोक की लहर फैल गई। खासकर पत्रकारिता जगत एवं शिक्षा जगत में भी शोक की लहर दौड़ गई।

उनके अंतिम दर्शन हेतु उनकी आवासीय परिसर में लोगों का तांता लगा रहा। उनके अंतिम शव यात्रा में शिक्षा, सामाजिक एवं पत्रकारिता जगत से जुड़े लोगो का हुजूम देखा गया। उनकी अंतिम संस्कार अयोध्या मिथिला गंगा धाम घाट पर हिंदू रीति रिवाज के साथ संपन्न हुआ उनके बड़े पुत्र प्रभात खबर के पत्रकार अभिषेक भारती ने मुखाग्नि दी।

ये भी पढ़ें   रुक रुक कर लगातार हो रही बारिश से जनजीवन प्रभावित

मौके पर उपस्थित अनुमंडल पत्रकार संघ के संरक्षक वरिष्ठ पत्रकार सह शिक्षक सुबोध कुमार ने सच्चिदानंद राय की मृत्यु को पत्रकारिता एवं शिक्षा जगत में अपूरणीय क्षति बताया। उन्होंने कहा कि वे सदैव लेखनी न्याय पूर्ण व निर्भीक पत्रकारिता के लिए प्रसिद्ध रहे। उनके निधन से पत्रकारिता व शिक्षा जगत में शोक की लहर है और पत्रकार बंधु काफी आहत है। उनके योगदान को पत्रकारिता जगत कभी भुला नहीं सकता।

मीडिया दर्शन के संवाददाता अशोक कुमार ठाकुर ने कहा कि वे पत्रकार के साथ ही आदर्श शिक्षक एवं व्यक्तित्व के धनी व्यक्ति थे ।वे न सिर्फ एक कुशल पत्रकार थे बल्कि एक मजे हुए गुरु भी थे आज उनके दिखाए रास्ते पर चलकर सैकड़ों छात्र विभिन्न क्षेत्रों में परचम लहरा रहे हें।

उनके निधन पर विधान परिषद तेघड़ा अनुमंडल प्रतिनिधि विनोद कुमार मिश्र उर्फ गोरेलाल बाबा, निवर्तमान मुख्य पार्षद प्रतिनिधि महबूब आलम उर्फ कारी मुखिया,बी ई ई ओ भुवनेश्वर राय, पूर्व प्रधानाध्यापक सह हिंदुस्तान दैनिक के वरिष्ठ पत्रकार, देव भूषण ईश्वर, पत्रकार संघ के अनुमंडल अध्यक्ष सह अधिवक्ता शशि भूषण भारद्वाज, मां इंदु नेत्र अस्पताल गौरा बरियारपुर के डायरेक्ट डॉ राजेश कुमार, दैनिक जागरण के पत्रकार अजीत कुमार झा, दैनिक भास्कर के विकास कुमार, हिंदुस्तान के अशोक कुमार सिंह, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सुमित कुमार उर्फ बबलू, अनंत कुमार,निवर्तमान बीआरपीआशुतोष मिश्रा, राजन कुमार, प्रधानाध्यापक संजय कुमार सिन्हा, विनोद कुमार राम, दिलीप कुमार सहनी, नवीन कुमार, वेद प्रकाश, शमशेर आलम, चिंतनमय आनंद ,माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रखंड सचिव रवि कुमार, भाजपा नेता सुनील कुमार, कृष्ण नंदन सिंह, दीपक राय, पवन ठाकुर, भाकपा अंचल मंत्री परमानंद सिंह, रविंद्र कुमार, मोहम्मद हसमत उर्फ बाला जी, जदयू प्रखंड अध्यक्ष देव कुमार, उपाध्यक्ष अविनाश कुमार, गुलाम गौस, कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष महेंद्र कुमार, सरोज पासवान, रामबाबू साह, रणधीर मिश्रा, व्यवसायिक संघ के सुशील कुमार अग्रवाल आदि ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा की इनके निधन से पत्रकारिता एवं शिक्षा जगत के साथ ही समाज को भी बड़ी क्षति हुई है