फेसबुक ने क्यों बदला अपना नाम? जानिए क्या है इसके पीछे की स्ट्रैटेजी – जान लें इससे जुड़ा बड़ा बदलाव

Meta Verse

डेस्क : लंबे समय से फेसबुक का नाम बदलने की बात चल रही थी लेकिन यह खबर किसी भी प्रकार से मीडिया में नहीं आई थी। अचानक से ही मार्क जुकेरबर्ग ने ऐलान किया कि वह फेसबुक का नाम बदल देंगे। नाम बदलते ही सभी लोग चिंता में आ गए हैं।

लोगों को अब लगने लगा है कि फेसबुक का नाम बदलने की वजह से उसके फीचर में भी बदलाव होगा, ऐसे में आज हम आपको बताएंगे कि फेसबुक ने अपना नाम बदलने के साथ-साथ और किस प्रकार से बड़े बदलाव किया है। दरअसल मार्क जुकेरबर्ग फेसबुक को एक अलग नाम देना चाहते हैं, वह देखना चाहते हैं कि आखिर नए प्लेटफार्म पर उनकी ऍप्लिकेशन किस प्रकार काम करेगी।

फेसबुक का नाम बदलकर मेटावर्स कर दिया गया है। इतना ही नहीं बल्कि मेटवर्स एक अलग दुनिया होगी। MetaVerse के जरिए अब फेसबुक नई दुनिया में पहुँच जाएगा। नई दुनिया वर्चुअल दुनिया की होने वाली है, इस हिसाब से फेसबुक को बदलना अनिवार्य हो गया है। जिस गति से लोग विक्सित हो रहे हैं और आगे बढ़ रहे हैं उससे यह मालूम पड़ रहा है की दुनिया पूरी तरह से दूरसंचार के स्तर पर बदल जाएगी।

बदलते हुए ज़माने को देखते हुए फेसबुक में बदलाव करना बेहद ही आवश्यक हो गया है। जब से फेसबुक का नाम बदला है तब से मार्क जुकरबर्ग ने इशारा किया है कि आने वाले समय में अब ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा। मेटावर्स में किसी भी प्रकार से बदलाव नहीं किया गया है। इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप और फेसबुक के मैसेंजर में कोई भी बदलाव नहीं देखा गया है। कहीं भी किसी प्रकार का बदलाव देखने को नहीं मिल रहा है।

यहां तक कि फेसबुक के कॉर्पोरेट ढांचे में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है, बल्कि 1 दिसंबर से एक नया स्टॉक निकाला जाएगा। जिसके लिए यह तैयारी हो रही है बता दें कि मेटावर्स के जरिए अब फेसबुक वर्चुअल वर्ल्ड की शुरुआत कर रहा है, जहां पर आप अपने घर वालों के साथ वर्चुअल टूर कर सकते हैं। आप इसमें शॉपिंग जा सकते हैं, घर, गाड़ी खरीद सकते हैं और यह एक रियल दुनिया की तरह नजर आएगा। इतना ही नहीं बल्कि इस वर्चुअल दुनिया में आप क्रिप्टो करेंसी तक खरीद सकते हैं।

You may have missed

You cannot copy content of this page