घर के लिए इनवर्टर AC या नॉर्मल AC में क्या है सही? यहां जानें – दाम और काम की पूरी जानकारी..

INVERTER AC BEST

डेस्क : बाजार में दो तरह के एयर कंडीशनर उपलब्ध हैं। इन्वर्टर एसी और फिक्स्ड स्पीड एयर कंडीशनर। दोनों एसी ठंडी हवा देने का काम करते हैं, लेकिन दोनों में कई बुनियादी अंतर हैं। यह अंतर खरीदने से पहले एक बार जान लेना चाहिए। फिर संतोष से जवाब मिलने के बाद आपको अपना पसंदीदा एसी खरीदना चाहिए। जैसा कि बताया गया है कि दोनों एसी ठंडी हवा ही देते हैं।

लेकिन बड़ा अंतर उनके कंप्रेसर में है। एसी में कंप्रेसर का काम सबसे महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यह एसी में भरे लिक्विड को कंप्रेस करके फैलाता है जिससे ठंडी हवा निकलती है। इन्वर्टर एसी में कंप्रेसर तकनीक ऐसी होती है कि कंप्रेसर जरूरत के हिसाब से चालू और बंद रहता है। इसमें कंप्रेसर पूरी तरह से कंट्रोल ऑपरेशन में चलता है। यदि कमरे का तापमान अधिक है, तो कंप्रेसर हवा के अनुसार ठंडी हवा के लिए काम करेगा। अगर कमरा ठंडा है, तो एसी कंप्रेसर उसी के अनुसार काम करेगा। इससे बिजली की बचत होती है क्योंकि जब कमरा ठंडा हो जाता है तो कंप्रेसर बंद हो जाता है। दूसरी ओर, सामान्य एसी में कंप्रेसर को चालू करने की तकनीक नहीं होती है। आपको सीधे एसी बंद करना होगा। इससे बिजली की खपत बढ़ जाती है।

कौन सा एसी बेहतर और सस्ता है : पावर के मामले में इन्वर्टर एसी ज्यादा सही है। इसकी संचालन लागत कम है और इसका उपयोग करना भी आसान है। इन्वर्टर एसी चलने पर कोई शोर नहीं होता है। सामान्य या फिक्स्ड एसी को बाद में बंद करना पड़ता है क्योंकि कमरे के ठंडा होने के बाद कंप्रेसर के स्वत: बंद होने की कोई व्यवस्था नहीं है। वहीं इन्वर्टर एसी रूम ठंडा होने के बाद उसका कंप्रेसर बंद हो जाता है। इन्वर्टर एसी को कमरे की कूलिंग तक पहुंचने में जितना समय लगता है, उतना ही उससे कुछ शोर भी आ सकता है। नहीं तो कोई शोर सुनाई नहीं देता।

जहां तक ​​कीमत की बात है तो इन्वर्टर एसी फिक्स्ड स्पीड वाले एसी से थोड़ा महंगा होता है। इसका कारण कंप्रेसर तकनीक का महंगा होना है। लेकिन बाद के सभी खर्चों को देखें तो इन्वर्टर एसी बाकी एसी से सस्ता है। खरीदारी के समय इसमें अधिक पैसा खर्च हो सकता है, लेकिन बिजली की बचत के मामले में यह भविष्य में सस्ता सौदा साबित होता है। फिक्स एसी खरीदते समय आपको यह सस्ता लग सकता है, लेकिन इसकी परिचालन लागत और बिजली खर्च भविष्य में महंगा साबित होता है। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए अगर आप ग्राहक हैं तो अपना नफा-नुकसान देखकर ही एसी खरीदें।

ये भी पढ़ें   BSNL यूज़र की बल्ले बल्ले! अब कंपनी लगाएगी 1 लाख नए मोबाइल टॉवर, Network की प्रॉब्लम खत्म