December 6, 2022

बड़ा झटका! मोबाइल रिपेयर कराना भी हुआ महंगा, पार्ट्स पर सरकार ने लगाया 15% टैक्स..

MOBILE REPAIR COSTLIER

डेस्क : इन दिनों तमाम खाने- पीने की चीजों पर जीएसटी लगने के बाद अब आपके मोबाइल के पार्ट्स पर भी टैक्स लगेगा। किसी मोबाइल को रिपेयर करवाने के लिए अब अधिक खर्च करने होंगे। सरकार की ओर से मोबाइल पार्ट्स पर 15% बेसिक कस्टम ड्यूटी (BCD) लागू करने का निर्णय लिया गया है। इस बात की पुष्टि सीबीआइसी की ओर से एक बयान में किया गया है। CBIC के मुताबिक फोन की डिस्प्ले असेंबली आयात के संबंध में कई प्रकार के भ्रम उत्पन्न हुए हैं। वर्तमान में मोबाइल की डिस्प्ले असेंबली पर लगने वाली टैक्स 10 फ़ीसदी लगता है। वहीं डिस्प्ले असेंबली के बनाने के लिए इस पर पुर्जों के आधार पर अलग से कोई शुल्क नहीं लगेगा।

डिस्प्ले असेंबली में टच पैनल के अलावा ग्लास एलइडी बैकलाइट और एफपीसी पर लगाया जाएगा। सीबीआईसी के मुताबिक यदि मोबाइल फोन की डिस्प्ले असेंबली धातु या प्लास्टिक के फ्रेम में आयात होता है तो इस पर 10 फ़ीसदी टैक्स लगेगा। वहीं इसे अलग से मेटल/प्लास्टिक का बैक सपोर्ट आयात किया जाता है तो इस पर 15 फ़ीसदी टैक्स लगा जाएगा। बता दें यह टैक्स इससे पहले नहीं लगाया जाता था।

मालूम हो कि वर्ष 2016 में सरकार की ओर से फोन निर्माण के संबंध में पीएमपी अधिसूचना जारी किया गया था, जिससे भारत में विनिर्माण की क्षमता को बढ़ाया जा सके। इससे घरेलू प्रोडक्शन को बढ़ाने का उद्देश रखा गया था। सरकार की मानें तो यह टेक्स भी इसी दृष्टिकोण से लगाया गया है। सरकार का कहना है कि उसने कल-पुर्जों वाली मोबाइल डिस्प्ले असेंबली के आयात पर कस्टम ड्यूटी को लेकर भ्रम दूर किया है।

ये भी पढ़ें   Jio ने उड़ाई Airtel-Vi की नींद - महज 20 रुपये में 28 दिनों तक रोजाना 3GB Data और Calling..