iPhone यूजर्स की समस्या बढ़ सकती है, अधिक प्रॉफिट के लोभ में कंपनी करने वाली है कुछ ऐसा

Iphone Show Ads

यदि आप iphone यूजर हैं तो आपकी समस्या में इजाफा होने के आसार हैं। हाल ही में जारी रिपोर्ट के मुताबिक आपकी परेशानियां बढ़ सकती हैं। रिपोर्ट के अनुसार ऐपल iPhone और iPad पर पहले से ज्यादा ऐड (विज्ञापन) दिखाने की तैयारी कर रहा है।

ब्लूमबर्ग के मार्क गुरमैन के अनुसार “ऐपल के ऐडवर्टाइजिंग प्लैटफॉर्म्स के वाइस प्रेसिडेंट टेरेसी कंपनी के रेवेन्यू को बढ़ाने के लिए ऐसा कर सकते हैं। टेरेसी ऐपल के रेवेन्यू को डबल डिजिट में पहुंचाने का टारगेट लेकर चल रहे हैं। अभी ऐपल का ऐनुअल रेवेन्यू करीब 4 बिलियन डॉलर का है। ऐपल ने अपने मैप्स ऐप में सर्च ऐड्स की टेस्टिंग भी शुरू कर दी है। आने वाले दिनों में इसकी टेस्टिंग ऐपल बुक्स और ऐपल पॉडकास्ट्स के लिए भी की जा सकती है।”

सर्च रिजल्ट में ऊपर दिखने के लिए चुकानी होगी कीमत ऐपल अभी अपने ऐप स्टोर्स में ऐड दिखाता है। जिसके लिए ऐप स्टोर के सर्च पेज में अपने ऐप्स को प्रमोट करने के लिए डिवेलपर्स ऐपल को रकम चुकाते हैं। रिपोर्ट के अनुसार ऐपल इसी ऐडवर्टाइजिंग मॉडल को अपने मैप्स ऐप में भी शुरू करने की तैयारी में है। इसी तरह आने वाले दिनों में बुक्स और पॉडकास्ट ऐप के सर्च में ऊपर दिखने के लिए भी पब्लिशर्स को पैसे देने पड़ सकते हैं।

गुरमैन के अनुसार ऐपल ऐप स्टोर को कुछ हफ्तों में टुडे टैब और ऐप डाउनलोड पेजेस तक बढ़ाया भी जा सकता है। अभी ऐपल ऐप स्टोर के सजेस्टेड पैनल में दिए गए सर्च टैब में ऐड दिखते हैं। कुछ दिनों में ऐपल इन ऐड्स को मेन टुडे टैब के साथ ही थर्ड पार्टी ऐप डाउनलोड पेजेस में भी डिस्प्ले कर सकता है।

ये भी पढ़ें   महंगे रिचार्ज का झंझट खत्म! महज 10 रु में मिलेगी जीवनभर की वैलिडिटी, जानें - विस्तार से..

ऐप ट्रैकिंग ट्रंसपेरेंसी फीचर से भी बड़ी मुश्किल ऐपल ने iOS 14.5 में इस फीचर को लॉन्च किया था। जिसके तहत हर यूजर ये तय कर सकता है कि फोन में मौजूद ऐप उन्हें दूसरे प्लैटफॉर्म या वेबसाइट पर ट्रैक कर सकते हैं या नहीं। ये नया फीचर यूजर्स के लिए काफी हद तक उपयोगी साबित हुआ, पर अन्य बिजनेस प्लेटफार्म के लिए नुकसानदेह साबित हुआ। रिपोर्ट के अनुसान इसका असर Small business पर काफी पड़ा। परिणाम स्वरूप छोटे बिजनस के रेवेन्यू में ऐपल ऐप ट्रैकिंग फीचर के कारण 13 प्रतिशत की कमी देखी गई। वहीं, दूसरी तरफ रिसर्च फर्म Omdia के अनुसार पिछले साल ऐपल का ऐडवर्टाइजिंग बिजनस 238% की बढ़ोतरी के साथ 3.7 बिलियन डॉलर का हो गया।