आर्थिक तंगी से गुजर रहे पूर्व भारतीय खिलाड़ी को मिली 1 लाख की नौकरी, बस करना होगा यह काम

आर्थिक तंगी से गुजर रहे पूर्व भारतीय खिलाड़ी को मिली 1 लाख की नौकरी, बस करना होगा यह काम 1

भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी अक्सर अपनी लग्जरी लाइफ जीने के लिए जाने जाते हैं. खिलाड़ियों की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट और फ्रेंचाइजी लीग मैचों से करोड़ों की कमाई होती है. इस दौर में कई ऐसे पूर्व खिलाड़ी भी हैं जो आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं. हाल ही में कुछ इस तरह की परेशानी का सामना एक पूर्व भारतीय खिलाड़ी को करना पड़ा. खिलाड़ी ने हाल ही में दिए गए एक इंटरव्यू में बताया था कि वह बिल्कुल बेरोजगार है और उनका गुजारा बीसीसीआई(BCCI) की तरफ से मिल रही पेंशन हो रहा है.

नौकरी का मिला ऑफर पूर्व भारतीय क्रिकेटर विनोद कांबली(Vinod Kambli) ने कुछ दिनों पहले खुलासा किया था कि वह आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं. एक समय विनोद कांबली के लाइफस्टाइल की चर्चा हर जगह होती थी. लेकिन आज उनका परिवार बीसीसीआई द्वारा दिए जा रहे 30 हजार महीने की वेतन पर पल रहा है. विनोद कांबली ने हाल ही में दिए गए एक इंटरव्यू में बताया कि उन्हें काम की तलाश है अब सचिन तेंदुलकर(Sachin Tendulkar) के जिगरी दोस्त विनोद कांबली को एक नौकरी का ऑफर मिला है.

खुद ही मांगी थी नौकरी मिड डे को दिए गए एक इंटरव्यू में कांबली ने महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन(MCA) से नौकरी देने की मांग की थी. लेकिन उन्हें इस नौकरी का ऑफर महाराष्ट्र के एक बिजनेसमैन संदीप थोराट ने दिया है. संदीप थोराट ने विनोद कांबली को अपनी कंपनी सह्याद्रि उद्योग समूह के फाइनेंस डिपार्टमेंट में 1 लाख रुपए महीने की सैलरी के साथ नौकरी का ऑफर दिया है. हालांकि पूर्व क्रिकेटर ने अभी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

ये भी पढ़ें   रोमांटिक अंदाज में Yuzvendra Chahal ने पत्नी धनश्री वर्मा को दी जन्मदिन की बधाई, वीडियो वायरल

आर्थिक तंगी का किया था खुलासा भारत के लिए 17 टेस्ट और 104 वनडे मुकाबले खेल चुके कांबली ने मिड डे से बात करते हुए कहा था, “ मैं एक रिटायर्ड क्रिकेटर हूं और पूरी तरह से बीसीसीआई(BCCI) की पेंशन पर निर्भर हूं. मुझे असाइनमेंट चाहिए ताकि मैं युवा क्रिकेटरों की मदद कर सकूं. मुंबई ने अमोल मजूमदार को मुख्य कोच बनाए रखा है और अगर उन्हें मेरी जरूरत है तो मैं वहां हूं. मैंने उनसे कई बार कहा कि अगर आपको मेरी जरूरत है तो मैं आपके साथ हूं. मेरा परिवार है और मुझे उनकी देखभाल करनी है. मैं मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन प्रेसिडेंट से अनुरोध करता हूं कि अगर मेरी जरूरत है तो मैं तैयार हूं.”