Friday, July 19, 2024
Railway News

आखिर एजेंट को कैसे मिल जाता है Confirm Ticket? और आपको क्यों नहीं,समझें- पूरा खेल…

Confirm Train Tickets :  त्योहारी सीजन में ट्रेन टिकट मिलना काफी कठिन होता है। यात्री महीने भर पहले टिकट बुक कर लेते हैं, ताकि उन्हें कंफर्म सीट मिल सके। इसके बाद कंफर्म टिकट ना मिलने को लेकर आशंकाएं बनी रहती है। लेकिन दूसरी तरफ ब्रोकर्स यात्रा से एक या दो दिन पहले भी कंफर्म टिकट करवा देते हैं।

अब आप सोच रहे हैं कि ऐसी क्या खास सुविधाएं उनके पास मौजूद हैं, जिससे ब्रोकर्स आसानी से कंफर्म टिकट बुक कर लेते हैं। तो उनके पास ऐसी कोई खास सुविधाएं नहीं होती। वो बाद खास ट्रिक के जरिए यह सब कर लेते हैं। आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

कैसे आसानी से बुक करते हैं तत्काल टिकट

टिकट दलाल तत्काल कोटा के तहत टिकट बुक करने में माहिर हैं। तत्काल टिकट यात्रा की तारीख से एक दिन पहले जारी किए जाते हैं और अक्सर यात्रियों के लिए ये आखिरी उम्मीद होते हैं। ब्रोकर्स अच्छी तरह से तैयार होते हैं और उपलब्ध होते ही इन टिकटों को बुक करने के लिए कई एजेंटों का उपयोग करते हैं।

आंतरिक संबंध अच्छे होने के फायदें

कुछ दलालों के ट्रेन प्रणाली के भीतर या बुकिंग एजेंटों के साथ अंदरूनी संबंध हो सकते हैं। इससे उन्हें सार्वजनिक रूप से उपलब्ध होने से पहले सीट की उपलब्धता के बारे में जानकारी मिल जाती है, जिससे वे तुरंत टिकट आरक्षित कर सकते हैं।

टिकट दलाल प्रतीक्षा सूची के टिकटों को कन्फर्म टिकट में बदलने की रणनीतियों से अच्छी तरह परिचित हैं। वे प्रतीक्षा सूची की गतिविधि पर बारीकी से नज़र रखते हैं और पुष्टि की संभावना बढ़ाने के लिए रणनीतिक रद्दीकरण और फिर से बुकिंग करते हैं।

वहीं ट्रेन टिकट दलालों के पास बहुत सारी चालें होती हैं, यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि उनके तरीकों में अक्सर खामियों का फायदा उठाना या नियमों को तोड़ना शामिल होता है। भारतीय रेलवे ने अपनी गतिविधियों पर अंकुश लगाने और सभी यात्रियों के लिए निष्पक्ष बुकिंग प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए कई उपाय लागू किए हैं। जैसे-जैसे प्रौद्योगिकी और नियम विकसित होते हैं, टिकट दलालों की रणनीतियाँ बदल सकती हैं। कई यात्रियों के लिए कन्फर्म ट्रेन टिकट ढूंढना अभी भी एक चुनौती है।

Nitesh Kumar Jha

नितेश कुमार झा पिछले 2.5 साल से thebegusarai.in से बतौर Editor के रूप में जुड़े हैं। इन्हें भारतीय राजनीति समेत एंटरटेनमेंट और बिजनेस से जुड़ी खबरों को लिखने में काफी दिलचस्पी है। इससे पहले वह असम से प्रकाशित अखबार दैनिक पूर्वोदय समेत कई मीडिया संस्थानों में काम किया। उनके लेख प्रभात खबर, दैनिक पूर्वोदय, पूर्वांचल प्रहरी और जनसत्ता जैसे अखबारों में भी प्रकाशित हो चुके हैं। अभी नीतेश दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से MA मास मीडिया कर रहे हैं।