Friday, July 19, 2024
Railway News

Bullet Train in India : जल्द चलेगी भारत में बुलेट ट्रेन, जानें- कहाँ तक पंहुचा काम…. 

Bullet Train : देश में बुलेट ट्रेन शुरू करने की दिशा में तेजी से कम हो रहा है और इसके तहत मुंबई अहमदाबाद बुलेट ट्रेन का निर्माण महाराष्ट्र और गुजरात राज्य में तेजी से चल रहा है। हाल ही में नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड की तरफ से जानकारी दी गई है कि इस क्रम में टनल और पियर्स का काम तेजी से हो रहा है।

जानकारी के अनुसार अब तक 342 किमी वायाडक्ट्स में से 200 किमी पियर्स, 298 किमी पाइल्स और 64 किमी वियाडक्ट गर्दर्स का काम पूरा हो चुका है। NHSRCL ने जानकारी दी है कि बाकी काम भी जल्द ही पूरा हो जायेगा। काम की स्पीड को देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि ये 2026 तक पूरा हो जायेगा।

हालांकि मुंबई में अभी काम चल रहा है और 21 किलोमीटर लम्बे सबवे के लिए कंपनी एफकॉन्स इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड की तरफ से टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। 21 किमी लंबे सबवे में से 7 किमी पहली समुद्री सबवे लाइन का निर्माण ठाणे खाड़ी में किया जायेगा। इसके लिए 3 टनल बोरिंग मशीन और न्यू ऑस्ट्रीयन टनलिंग विधि का इस्तेमाल किया जायेगा।

स्टेशन निर्माण का चल रहा काम

इसके साथ ही मुंबई HSR स्टेशन और शिलफाटा के बीच 21 किमी डबल ट्रैक सुरंग का निर्माण हो रहा है। इसके साथ ही गुजरात-महाराष्ट्र सीमा पर स्टेशनों के निर्माण के लिए 3 स्टेशनों यानी ठाणे, विरार और बोईसर का काम चल रहा है। हाई स्पीड रेल कोरिडोर में 12 स्टेशन है।

इसमें सूरत, विरार और ठाणे ग्रीनफील्ड तो गुजरात का साबरमती स्टेशन ब्राउनफील्ड स्टेशन होगा। हाई स्पीड रेल कोरिडोर के T-2 पैकेज के लिए हाई स्पीड रेल ट्रैक सिस्टम के लिए भारतीय इंजिनियरों की ट्रेनिंग शुरू कर दी गई है। T-2 पैकेज वडोदरा और वापी के बीच 237 किमी की दूरी तय करता है।

कई नदियों पर बनेंगे पुल

हाई स्पीड रेल परियोजना में अहमदाबाद में माइनर रोड लेवल स्लैब 60 मीटर और सूरत में 300 मीटर का निर्माण तैयार किया जा चुका है। अब नर्मदा, तापी, माही और साबरमती नदियों के ऊपर पुल का काम चल रहा है। इस दिशा में बनाया जा रहा पहला पुल जनवरी 2023 में बनकर तैयार हो चुका है।

Durga Partap

दुर्गा प्रताप पिछले 1 सालों से बतौर Editor में के रूप में thebegusarai.in से जुड़े। इन्हें बिजनेस, ऑटोमोबाइल्स और खेल जगत से जुड़ी खबरे को गहराई से लिखने में काफी दिलचस्पी है। पिछले 5 साल से वह कई समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लगातार योगदान देते रहे हैं। दुर्गा ने MDSU से BCA की पढ़ाई पूरी की है।