बेगूसराय के मंझौल में अवैध शराब के साथ दो महिला तस्कर गिरफ्तार

MANJHAUL

न्यूज डेस्क : बिहार सरकार शराबबंदी को लेकर लगातार पटना से थाना तक के पुलिस अधिकारियों को निर्देश जारी करते रहती है। पुलिस छापामारी भी करती है शराब बरामद भी हो रहा है। लेकिन जिस पंचायत में ओपी और डीएसपी का कार्यालय हो वहां एक ही मोहल्ले के दो घरों से महिला धंधेबाज की शराब के साथ गिरफ्तारी स्थानीय पुलिस प्रशासन के मंसूबे पर बड़ा सवाल खड़ा करता है। ऐसा ही एक मामला बेगूसराय के मंझौल से सामने आया है। जहां मंझौल ओपी व अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कार्यालय से महज कुछ सौ मीटर की दूरी स्थित एक मोहल्ला में शुक्रवार को शराब की बिक्री की गुप्त सूचना पर मंझौल पुलिस ने छापामारी की । जहां से दो महिला को अवैध शराब के साथ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया ।

दो महिला धंधेबाज में एक मुर्गा व्यवसायी महिला भी शामिल बताते चलें कि मंझौल ओपी थाना से राजन गाछी टोला की दूरी मुश्किल से महज कुछ सौ मीटर की है। राजन गाछी टोला हमेशा चर्चा में रहा है। जहां से दोनों अवैध शराब कारोबारी की गिरफ्तारी हुई है। लेकिन कारोबारी अपनी चलाकी की वजह से आज तक मंझौल ओपी पुलिस को हाथ नहीं आ रही थी। शुक्रवार को मंझौल ओपी पुलिस ने दोनों ही अवैध शराब कारोबारी महिला को गिरफ्तार कर क्षेत्र में अवैध शराब कारोबारियों की रातों की नींद और दिनों का चैन उड़ा दी है। मंझौल पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर एएसआई वीरेंद्र उरांव के नेतृत्व में छापेमारी दल ने मंझौल पंचायत चार के वार्ड 2 स्थित दो घरों में एकसाथ छापा मारा । जिसमे प्रथम घर से रेखा देवी पति नरेश चौधरी के पास से एक हरे रंग के प्लास्टिक बोतल में 2 लीटर महुआ शराब बरामद व दूसरे घर से शिला देवी पति उमेश सहनी को दो कार्टून शराब के साथ गिरफ्तार किया ।

एक कार्टून में इंपिरियल ब्लू के 375 एमएल का 22 बोतल एवं दूसरे कार्टून में मकडोवेल के 375 एमएल का 15 बोतल शराब बरामद किया गया । शिला देवी उर्फ मैना माय मंझौल बस स्टैंड में मुर्गा व्यवसायी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अनुमंडल मुख्यालय में चोरी छिपे शराब की होमडिलिवरी धरल्ले से चल रही है। मंझौल अनुमंडल मुख्यालय में लगातार छापेमारी के वावजूद तस्करों के द्वारा पुलिस की आंख में धूल झोंककर अवैध शराब की बिक्री की जा रही है। उक्त मामले में पुलिस के हाथ सिर्फ दो महिला धंधेबाज ही लग सकी । अन्य संलिप्त लोग की तलाश बड़ी चुनौती बनी हुई है।

You cannot copy content of this page