January 29, 2022

बेगूसराय में ऑक्सीजन के अभाव में मरीज की गई जान, गायब थे डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मी, जानिए- पूरा मामला..

Begusarai News

छौड़ाही (बेगूसराय): बेगूसराय जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र छौड़ाही से सोमवार की देर रात डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मियों के गायब रहने के कारण उचित इलाज एवं ऑक्सीजन की कमी के कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई। जिसके बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने स्वास्थ एवं सिविल अधिकारियों पर लापरवाही बरतने का आरोप लगा पीएचसी के एंबुलेंस का गेट तोड़ दिया। वहीं अन्य सामग्रियों में भी तोड़फोड़ की। बाद में प्रबुद्ध जनों द्वारा समझाने बुझाने पर लोग शांत हुए। हालांकि, ग्रामीण जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा अपनी नाकामी छुपाने के लिए खुद ही अस्पताल में तोड़फोड़ कर ग्रामीणों पर तोड़ फोड़ करने का आरोप लगाने का की बात कह रहे हैं। समाचार प्रेषण तक अस्पताल तो खुला था। परंतु, एक भी डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मी नहीं आए थे। ममता कार्यकर्ता ही अस्पताल में मौजूद थी। कोई कुछ भी बताने से परहेज कर रहे थे। मृतक छौड़ाही ओपी क्षेत्र के बखड्डा निवासी 60 वर्षीय ब्रजनंदन यादव थे।

इलाज और ऑक्सीजन के अभाव में मौत: वही इस संबंध में मृतक के पुत्र जीवछ कुमार यादव उर्फ अरविंद कुमार ने बताया कि सोमवार की रात उनके पिता बृजनंदन यादव की तबीयत अचानक खराब हो गई। उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। इलाज के वास्ते वह अपने पिता को लेकर पीएचसी छौड़ाही पहुंचे। देर रात तक इंतजार करते रहे लेकिन पीएचसी में ऑन ड्यूटी डॉक्टर, एएनएम आदि स्वास्थ्य कर्मी नजर नहीं आए। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ कमलेश कुमार को मोबाइल से सूचित किए तो वह खुद को कोरोना संक्रमित बता ऑन ड्यूटी डॉक्टर को भेजने की बात कहे। रात 11:00 बजे तक उनके पिता को इलाज नहीं मिल सका। ना ही डॉक्टर या स्वास्थ्य कर्मी अस्पताल आए। इस कारण ऑक्सीजन एवं इलाज में अभाव के कारण उनकी पिता की देर रात पीएचसी छौड़ाही में ही मौत हो गई।

और हो गई पीएचसी में तोड़ फोड़: मरीज के इलाज के अभाव में मौत के बाद छौड़ाही पीएचसी के एंबुलेंस एवं अन्य सामग्रियों में तोड़फोड़ की गई। जिसका आरोप पीएचसी कर्मी एवं ग्रामीण एक दूसरे पर लगा रहे हैं। छौड़ाही पीएचसी में घटना के वक्त ऑन ड्यूटी एएनएम हीरा कुमारी का कहना है कि वह अपने ड्यूटी पर मुस्तैद थीं। तभी एक मरीज को इलाज के लिए लाया गया। शरीर जांच के दौरान पता चला कि मरीज की मौत हो चुकी है। नब्ज बंद और उनका शरीर ठंडा था। उनकी मौत हो चुकी थी फिर भी मरीज के स्वजन इलाज करने एवं ऑक्सीजन लगाने का दबाव देने लगे।

असामाजिक तत्वों के द्वारा एंबुलेंस के साथ तोड़फोड़ की गई: इसी बीच कुछ लोगों ने उनके साथ गाली गलौज की। वह भागकर बीआरसी के पीछे छिपकर अपनी जान बचाई, इस बीच असामाजिक तत्वों ने ऑक्सीजन एवं उससे संबंधित यंत्र इधर-उधर फेंक तोड़ फोड़ दिया। वही एंबुलेंस का गेट एवं अन्य सामग्री भी तोड़फोड़ कर दिया गया। जिसके बाद प्रबुद्ध लोगों ने वहां आकर आक्रोशित ग्रामीणों को समझा बुझा वहां से ले गए। तब हम लोग सुरक्षित घर जा सके।

मृतक के स्वजनों एवं ग्रामीणों का कहना है: कि इलाज एवं ऑक्सीजन के अभाव में अस्पताल में मरीज की मौत हुई है। उस समय कोई भी स्वास्थ्य कर्मी नहीं थे। हम लोग जिम्मेदार अधिकारी पर कार्रवाई की मांग कर रहे थे। हम लोगों के जाने के बाद अस्पताल कर्मी अपनी नाकामी छुपाने के लिए तोड़ फोड़ कर हम ग्रामीणों पर आरोप लगा रहे हैं। प्रखंड प्रमुख सतीश कुमार कुशवाहा, पूर्व प्रखंड प्रमुख मनोज यादव समेत कई जनप्रतिनिधियों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं ने पीड़ित परिवार से मुलाकात कर सांत्वना दी एवं प्रशासन से उचित मुआवजा एवं दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है।

कहते हैं प्रखंड प्रमुख: छौड़ाही प्रखंड प्रमुख सतीश कुमार कुशवाहा ने बताया कि एक एएनएम के भरोसे पीएससी चल रहा है। इलाज में लापरवाही के कारण मौत हुई है। पीएचसी छौड़ाही के जिम्मेदार अधिकारी पर कार्रवाई की मांग डीएम और सिविल सर्जन महोदय से की गई है।

You cannot copy content of this page
घर पे बनाए चटपटा भेल पूरी Mouni Roy Haldi Look: पीले लहंगे में नज़र आई एक्ट्रेस जालीदार ड्रेस में सुरभि ज्योति ने दिए कातिलाना पोज इलियाना डिक्रूज का दुलहन वाला अतरंगी फैशन Katrina Kaif का हॉट अंदाज़ Bikini में फोटोज हुए वायरल