बारिश ने 30 साल का तोड़ा रिकॉर्ड घर से खेत तक जलजमाव, फसल और सामान सब हुआ बर्बाद

Crop Damaged Due to Rain

छौड़ाही (बेगूसराय) : मंझौल अनुमंडल क्षेत्र में विगत तीन महीने के दौरान भारी बारिश हुई है। बारिश के कान्हा नक्षत्र ने तो पिछले 30 साल का तोड़ डाला है। जिससे अनुमंडल क्षेत्र के 10000 एकड़ से ज्यादा जमीन में लगी धान मक्का गन्ना आदि की फसल जमींदोज हो चुकी है। लेकिन अधिकारी फसल नुकसान के बदले उत्पादन बढ़ने की दलील दे रहे हैं। जिससे किसान काफी उबाल में है। सत्तारूढ़ भाजपा के किसान प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष रामकुमार वर्मा ने डीएम, डीएओ, कृषि मंत्री को समस्या से संबंधित आवेदन भेजा है।

इस संबंध में उन्होंने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि भारी बारिश के कारण विभिन्न गांव मुहल्ले और घरों में अभी भी पानी भरा है। जिससे लोगों में त्राहिमाम मचा हुआ है। गन्ना मक्का धान एवं सब्जी फसल पानी में डूब कर पूरी तरह नष्ट हो गई । फसल डूबने से थोक एवं खुदरा बाजार में दाम आसमान पर पहुंच गया है। किसानों को करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है। अनुमंडल क्षेत्र के 80 प्रतिशत खेतों में बर्बादी का आलम है।लेकिन बीएओ डूबे फसल से ज्यादा उत्पादन की बात कह किसानों के साथ मजाक कर रहे हैं। जिससे किसानों में काफी आक्रोश है।

जिला अध्यक्ष रामकुमार वर्मा ने डीएओ बेगूसराय से फसल नुकसान का आकलन कर यथाशीघ्र किसानों को मुआवजा देने की मांग की है। उन्होंने मुआवजा नहीं मिलने पर संपूर्ण जिले में जोरदार आंदोलन करने व्यापक चक्का जाम करने की चेतावनी दी है।