क्या आप भी करती हैं करवा चौथ का व्रत? तो न पहने इन रंगों के कपड़े, हो सकता हैं अशुभ! जानें-

Karwachauth muhrat 2021

न्यूज डेस्क: करवा चौथ हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। यह भारत के पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान समेत कई राज्यों में मनाया जाने वाला एक पर्व है। यह कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। करवा चौथ एक ऐसा त्यौहार है जो भारत में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं और फिर शाम के समय चंद्रमा की विधिवत पूजा करके यह व्रत खोला जाता है। इस दिन व्यस्त जीवन के बीच, जोड़ों को अपने रिश्तों में रोमांस को पुनर्जीवित करने और साथ में कुछ खूबसूरत पल बिताने का मौका देता है।

इस त्योहार की तैयारियां काफी पहले से शुरू हो जाती हैं। चाहे वह आभूषण खरीदना हो, मेहंदी कलाकार की बुकिंग करना हो या शाम की पूजा के लिए कपड़े खरीदना हो। यह महिलाओं के लिए बहुत महत्व का दिन है क्योंकि वे अपने पति और पुरुषों के लिए भी महिमा के लिए उपवास करती हैं, जिन्हें महिलाओं को अपना उपवास तोड़ने और उन्हें खिलाने में मदद करने के लिए कार्यालय से समय पर घर आना पड़ता है।


काला रंग: करवा चौथ जेसे सुभ अवसर पर शादीशुदा महिलाओं को काले रंग के कपड़े नहीं पहनी चाहिए। यह रंग किसी भी दिन के लिए अशुभ माना जाता है। और हिन्दू धर्म में कोई भी शुभ कार्य या पूजा-पाठ करते समय काले रंग के कपड़े नहीं पहने जाते हैं। ऐसे में महिलाओं को इन कपड़ों को पहनने से बचना चाहिए।

सफेद रंग: वैसे तो सफेद रंग शांति और सौम्यता का प्रतीक माना जाता है। लेकिन हिन्दू धर्म में सुहागिनों के लिए यह रंग पहनना अशुभ माना जाता है। इसलिए करवा चौथ पर शादीशुदा महिलाओं को सफेद रंग के कपड़े कभी नहीं पहननी चाहिए। इसके साथ ही इस दिन सफेद रंग की चीजों जैसे दही, दूध, चावल या सफेद वस्त्र का दान नहीं करना चाहिए।

भूरा रंग: वही करवा चौथ के दिन भूरे रंग के कपड़े पहनना भी अशुभ माना जाता है, क्योंकि यह रंग सेडनेस से भरा रंग माना जाता है। इसलिए महिलाओं को करवाचौथ पर इस रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

हम करवा चौथ क्यों मनाते हैं?

यदि हम इस त्योहार की लोकप्रियता को देखें, तो हम अपने देश के उत्तर और उत्तर पश्चिमी क्षेत्रों की प्रमुखता देखते हैं। इन क्षेत्रों की पुरुष आबादी का एक बड़ा हिस्सा भारतीय सेना के सैनिक और सैन्य बलों के अधिकारी थे और इन लोगों की सुरक्षा के लिए, इन क्षेत्रों की महिलाओं ने उपवास शुरू किया। इन सशस्त्र बलों, पुलिसकर्मियों, सैनिकों और सैन्य कर्मियों ने दुश्मनों से देश की रक्षा की और महिलाएं अपने पुरुषों की लंबी उम्र के लिए भगवान से प्रार्थना करती थीं। इस त्यौहार का समय रबी फसल के मौसम की शुरुआत के साथ मेल खाता है जो इन उपरोक्त क्षेत्रों में गेहूं की बुवाई का मौसम है। परिवारों की महिलाएं मिट्टी के बर्तन या करवा को गेहूं के दानों से भरती हैं और भगवान को रबी के महान मौसम के लिए प्रार्थना करती हैं।

You cannot copy content of this page