क्या आप जानते हैं ट्रेन में चैन कब खिची जाती है? जानबूझकर चैन खीचने पर कितने साल जेल में रहना पड़ सकता है- जानिए

Train Utility News

न्यूज डेस्क: ट्रेन में कभी भी अप्रत्याशित स्थिति उत्पन्न हो सकती है, और ऐसे समय में आपात स्थिति से बाहर आने के लिए ट्रेन को तुरंत रोकना पर सकता है। यात्रियों की सुविधा के लिए भारतीय रेलवे ने यात्रा के दौरान किसी भी अप्रिय स्थिति को रोकने के लिए यात्रियों के लिए प्रत्येक कोच में आपातकालीन चेन ब्रेक की व्यवस्था की है। प्रत्येक ट्रेन एक अलार्म चेन से लैस होती है जिसका उपयोग यात्री चलती ट्रेन को ठप करने के लिए कर सकते हैं। जैसे ही यात्री द्वारा चेन खींची जाती है, यह ट्रेन को रोकने के लिए आपातकालीन ब्रेक को सक्रिय कर देता है।

भारत में, रेलवे प्रणाली में चेन पुलिंग एक गंभीर मुद्दा है, क्योंकि बदमाश अपने गंतव्य के पास अनिर्धारित स्टॉप पर रुकने लिए ऐसा करते हैं। अक्सर, चेन पुलिंग दुर्भावनापूर्ण कारणों से की जाती है जहां यात्री अपनी सुविधा के लिए ट्रेन को रोकना चाहते हैं। हालांकि, भारतीय रेलवे ने चेन पुलिंग के संबंध में गंभीर कानून और नियम बनाए हैं, जिन्हें भारतीय रेलवे द्वारा किसी भी दंड या गंभीर कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए सभी को पता होना चाहिए।

RPF को अलार्म चेन पुलिंग के बारे में कैसे होती है जानकारी?

क्या आपने कभी सोचा है कि कैसे आरपीएफ अधिकारी चेन खींचने के बाद सटीक कोच में प्रवेश करता है? यह ट्रेन की साइड की दीवारों पर लगे इमरजेंसी फ्लैशर्स का कमाल है। ये फ्लैशर्स उस कोच में लगे होते हैं जहां से चेन खींची गई होती है, और एक लाइट झपकने लगती है जिससे आरपीएफ कर्मी आसानी से कोच का पता लगा सकते हैं। पर आरपीएफ अधिकारी आसानी से कोच की पहचान कर सकता है लेकिन चेन खींचने वाले का पता नहीं लगा सकता।

जंजीर खींचने के वास्तविक कारण क्या हैं?

चिकित्सा आपात स्थिति: जब किसी यात्री को तत्काल उपचार, दवा या अस्पताल में किसी भी क्षेत्र में या किसी स्टेशन पर अस्पताल में भर्ती जैसी चिकित्सा सहायता की आवश्यकता होती है।

ट्रेन में आग: दुर्घटनाएं अपरिहार्य हैं। ट्रेन में आग लगने की स्थिति में यात्री अपने कोच से चेन खींच सकते हैं।

बुजुर्ग या विकलांग व्यक्ति के साथ बोर्डिंग: किसी बुजुर्ग या विकलांग व्यक्ति के साथ बोर्डिंग करते समय चेन खींचना अपराध नहीं है। ऐसी संभावना है कि बुजुर्ग और विकलांग व्यक्तियों को ट्रेन में चढ़ने में समय लगता है। ट्रेन को लेट करने के लिए जानबूझ कर चेन खींचना अपराध है।

सुरक्षा आपात स्थिति: नक्सली क्षेत्रों में डकैती, डकैतों आदि जैसी घटनाओं के मामले में ट्रेन खिच ली जाती है।

जंजीर खींचने की सजा:

भारतीय रेल अधिनियम की धारा १४१ निर्दिष्ट करती है कि – यदि कोई यात्री या कोई अन्य व्यक्ति, बिना उचित और पर्याप्त कारण के, रेलवे प्रशासन द्वारा प्रदान किए गए किसी भी साधन का उपयोग करता है या उसमें हस्तक्षेप करता है। रेलगाड़ी में यात्रियों और रेलगाड़ी के प्रभारी रेल सेवक के बीच संचार के लिए, वह कारावास भेजा जा सकता है, जिसकी अवधि एक वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, जो एक हजार रुपए तक का हो सकता है, या दोनों से दण्डनीय होगा

  • (ए) पहले अपराध के लिए दोषसिद्धि के मामले में पांच सौ रुपये का जुर्माना होगा
  • (बी) दूसरे या बाद के अपराध के लिए दोषसिद्धि के मामले में तीन महीने के लिए कारावास।

यह खंड स्पष्ट रूप से परिभाषित करता है कि यदि कोई व्यक्ति अलार्म चेन खींचकर भारतीय रेलवे के सुचारू संचार में कोई गड़बड़ी पैदा करता है, तो वह कानूनी कार्रवाई के लिए उत्तरदायी होगा। सजा 500 रुपये के जुर्माने या 3 महीने के कारावास के रूप में होगी। इसलिए, चेन खींचने से पहले, किसी भी दंड या कानूनी झंझट से बचाने के लिए इन नियमों को याद रखें।

You cannot copy content of this page