लाचार इमरान नाक बचाएंगे या लोगो की जान, आखिर किस मुँह से मांगेंगे भारत से टीका, ढूंढ रहे हैं बीच का विकल्प

डेस्क : भारत का पड़ोसी राज्य पाकिस्तान इस वक्त दुविधा में पड़ गया है एक तरफ भारत में वैक्सीन आ चुकी है और लोगों को लगाई जा रही है वहीं पाकिस्तान में वैक्सीन आने का इंतजार हो रहा है। आपको बता दें कि पाकिस्तान के वजीरे आजम इस वक्त इस मुसीबत में पड़ गए हैं कि वह भारत से कैसे वैक्सीन मांगे इसके लिए वह कोई बीच का रास्ता तलाशते नजर आ रहे हैं।

पाकिस्तान में रोजाना छपने वाला अखबार डॉन के मुताबिक पाकिस्तान की सरकार ने साफ कर दिया है कि वह भारत से वैक्सीन किसी भी हालत में नहीं ले पाएंगे क्योंकि द्विपक्षीय समझौते के तहत ऐसा होना मुश्किल है। लेकिन, इसके चलते पाकिस्तान ने अन्य प्राइवेट संस्थानों को खुली छूट दी है कि वह दूसरे देशों से संपर्क कर सकते है। जिसके, तहत वह अपनी जनता के लिए वैक्सीन मुहैया करवा सकेंगे।

पाकिस्तान के स्वास्थ्य सलाहकार डॉ सुल्तान ने जब पाकिस्तान सरकार से पूछा कि क्या कोई विशेष वैक्सीन पाकिस्तान को दी जाएगी आखिर कोविशील्ड वैक्सीन का असर 90% से ज्यादा है। तो, इस पर पाकिस्तान ने जवाब दिया कि अगर ऐसा है तो वह इस वैक्सीन को भारत के बजाय पहले दूसरे देशों से लेने की कोशिश करेगा। यहां पर पाकिस्तान ने बता दिया है कि दूसरे देश में सबसे पहले चाइना का नाम आता है। लेकिन चाइना की वैक्सीन इतनी महंगी है कि उसके लिए बेतहाशा स्वास्थ्य बजट होना अनिवार्य है।

आपको बता दें कि इस वक्त भारत की स्थिति बेहद ही मजबूत है क्योंकि अनेकों देश इस वक्त भारत से ही वैक्सीन की सहायता मांगते नजर आ रहे हैं सबसे पहले भारत नेपाल को वैक्सीन देने की चाह जाहिर कर चुका है। लेकिन पाकिस्तान से समझौता करने के लिए भारत सरकार कितनी तत्पर है यह तो आने वाला समय ही बताएगा। पाकिस्तान इस वक्त ऑक्सफोर्ड से अस्ट्रज़ेनिका नाम की वैक्सीन मंगवा रहा है। साथ ही उसने चाइना से भी सांठगांठ की है जिसमें वह सीनोफार्मा नाम का टीका लगाने का काम शुरू करने वाला है।