December 7, 2022

आखिर भारतीय छात्र भारत छोड़कर MBBS की पढ़ाई के लिए Ukraine और दूसरे देशों मे क्यों जाते हैं?

indian student at ukraine

डेस्क : यूक्रेन पर रूस के हमले की गोलीबारी में फंसे अनगिनत भारतीय छात्र हैं। बढ़ते सैन्य संकट के बीच यूक्रेन में फंसे कई लोग medical की शिक्षा प्राप्त करने के लिए वहां गए थे। इन मेडिकल छात्रों में कई हरियाणा और पंजाब के हैं।इनमें से करीब 80 फीसदी छात्र वहां मेडिकल की पढ़ाई के लिए गए थे।

यूक्रेन में कितने भारतीय छात्र हैं? यूक्रेन में शिक्षा और विज्ञान मंत्रालय के अनुसार यूक्रेन में भारत के 18,095 से अधिक छात्र हैं।जालंधर के रहने वाले डॉ अश्विनी शर्मा के दो बच्चे एमबीबीएस कोर्स करने के लिए पिछले साल नवंबर में यूक्रेन गए थे। उन्होंने कहा कि उनके बच्चों की तरह पंजाब सहित भारत के हजारों छात्र यूक्रेन में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे हैं। उनके बच्चे अभी भी यूक्रेन में फंसे हुए हैं क्योंकि उन्हें 26 फरवरी को स्वदेश लौटना था, लेकिन हवाई क्षेत्र बंद होने के कारण नहीं जा सके।

इस सूची मे सबसे पहला कारण यह है कि भारत मे सरकारी colleges मे seats मिलना बहुत मुश्किल होता है ।डॉ शर्मा ने कहा कि यूक्रेन में एमबीबीएस की डिग्री को भारतीय चिकित्सा परिषद, विश्व स्वास्थ्य परिषद, यूरोप, ब्रिटेन आदि में मान्यता प्राप्त है। साथ ही यह कम खर्चीला भी है। “भारत में एक छात्र को इस साढ़े चार साल के पाठ्यक्रम के लिए 10 से 12 लाख रुपये वार्षिक शुल्क की आवश्यकता होती है और किसी भी निजी कॉलेज में पाठ्यक्रम पूरा करने के लिए लगभग 50 लाख रुपये खर्च करने की आवश्यकता होती है क्योंकि प्रत्येक छात्र को सरकारी कॉलेजों में प्रवेश नहीं मिल सकता है, जहां फीस लगभग 2 लाख रुपये प्रति वर्ष है, ”कीव में फंसे जालंधर के एक छात्र ने कहा कि यूक्रेन मे MBBS Course की सालाना फीस 4-5 लाख रुपये है, जो पंजाब मेडिकल कॉलेजों की फीस की तुलना में करीब तीन गुना कम है।

ये भी पढ़ें   MP में बिना बुलाये शादी का खाना खा रहे लड़के से प्लेट धुलवाए लेकिन बिहार में हुआ इसका ठीक उल्टा..
आखिर भारतीय छात्र भारत छोड़कर MBBS की पढ़ाई के लिए Ukraine और दूसरे देशों मे क्यों जाते हैं? 1
आखिर भारतीय छात्र भारत छोड़कर MBBS की पढ़ाई के लिए Ukraine और दूसरे देशों मे क्यों जाते हैं? 5

बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज फरीदकोट, राज बहादुर के कुलपति के अनुसार, जिन छात्रों को यहां प्रवेश नहीं मिल सकता है, वे अपने एमबीबीएस पाठ्यक्रम लेने के लिए यूक्रेन जाना पसंद करते हैं। यहां आपको राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) को उच्च प्रतिशत के साथ पास करने की आवश्यकता है क्योंकि यहां कड़ी प्रतिस्पर्धा है। NEET का आयोजन सरकारी और निजी कॉलेजों में स्नातक मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए किया जाता है और विदेश में एक ही कोर्स करने के लिए योग्यता अनिवार्य है। यूक्रेन में एमबीबीएस पाठ्यक्रम में प्रवेश पाने के लिए छात्रों को केवल एनईईटी उत्तीर्ण करने की आवश्यकता है क्योंकि उच्च स्कोर के लिए शायद ही कोई मानदंड है।

आखिर भारतीय छात्र भारत छोड़कर MBBS की पढ़ाई के लिए Ukraine और दूसरे देशों मे क्यों जाते हैं? 2

विशेषज्ञों का कहना है कि भारत में चिकित्सा शिक्षा का स्तर बेहतर है। वैसे भी वहां एमबीबीएस की पढ़ाई करने के बाद भारत में रजिस्ट्रेशन या प्रैक्टिशनर के लिए क्वालिफाइंग एग्जाम देना होता है। इसे पास करने के बाद छात्र को भारत में एमबीबीएस डिग्री धारक माना जाता है। अगर वह क्वालिफाई नहीं कर पाता है तो उसे भारत में 12वीं पास नहीं माना जाएगा। ऐसे में यूक्रेन से वापस आने वाले कई छात्र क्वालिफाइड छात्रों की परीक्षा नहीं दे पा रहे हैं और हाथ में हाथ डाले बैठे हैं.

आखिर भारतीय छात्र भारत छोड़कर MBBS की पढ़ाई के लिए Ukraine और दूसरे देशों मे क्यों जाते हैं? 3