Air Hostess फ्लाइट के लैंड होने से पहले क्यों बंद कर देती हैं अंदर की सारी लाइट

air hostess putting of the light

यात्री हवाई जहाज में अपनी यात्रा का आनंद लेते हैं। यात्रियों को हवाई जहाज में कोई तकलीफ न हो इसके लिए हर तरह की मदद के लिए फ्लाइट अटेंडेंट या एयर होस्टेस होती हैं। कई सारी चीजें फ्लाइट के क्रू मेंबर को उनकी ट्रेनिंग के दौरान सिखाई जाती हैं जो आम तौर पर यात्रियों को नहीं पता होती हैं। विमान में होने वाली कई अलग अलग चीजों के पीछे एक साइंस होती है, जो केवल फ्लाइट के क्रू को ही पता होता है। इंस्टाग्राम पर ऐसी ही चीजों के बारे में एयर होस्टेस सिएरा मिस्ट जानकारी देती रहती है। उन्होंने अब एक नए वीडियो में कई जानकारी दी है।

नए वीडियो में सिएरा ने बताया है कि रात में फ्लाइट जब भी उड़ान भरती या लैंड करती हैं तो केबिन की लाइट को एक दम डिम कर दिया जाता है। सबसे बड़ा कारण इसके पीछे का उन्होंने इमरजेंसी क्रैश बताया। उन्होंने बताया है कि विमान को कई बार उड़ान भरने या लैंडिंग के दौरान इमरजेंसी का सामना करना पड़ सकता है। अंदर अगर लाइट जलेगी और बाहर पूरी तरह अंधेरा होगा तो उस हिसाब से आंखों को सेट होने में समय लगेगा। क्योंकि विमान को इमरजेंसी के दौरान तुरंत खाली करना होता है ऐसे में अंधेरे के कारण आंखें पहले से ही बाहर के लिए सेट रहेंगी।

सभी की सीटों के सामने हवाई जहाज में ट्रे टेबल लगा होता है। जिस पर खाना, स्नैक सर्व किया जाता है। लेकिन उन्हें लैंडिंग या टेकऑफ के दौरान फोल्ड करने को कहा जाता है। सिएरा इसका कारण बताते हुए कहती है कि इमरजेंसी क्रैश अगर होता है तो विमान को 60-90 सेकंड में खाली करना होता है। ट्रे अगर खुली रहेगी तो हो सकता है कि उसमें फंस कर कोई दूसरा यात्री पर्याप्त समय में सीट से बाहर न आ सके और वह दुर्घटना का शिकार हो जाए।

ये भी पढ़ें   टिकट कंफर्म न होने का झंझट खत्म! रेलवे त्योहारों के मौके पर चलाएगा कई स्पेशल ट्रेन, जानें - समय सारणी..

सिएरा ने इससे पहले भी बताया था कि फ्लाइट अटेंडेंट का पूरा प्रयास रहता है कि हवाई जहाज के अंदर बनने वाली कॉफी वह न पीयें। उन्होंने इसके पीछे हवाई जहाज के पानी को कारण बताया था। उनका कहना था कि हवाई जहाज के पानी टैंक की ज्यादा सफाई नहीं की जाती है।