Indian Railway : काउंटर टिकट खरीदते ही अगर खो जाए टिकट तो क्या करेंगे ? ऐसे कर सकते हैं यात्रा..

Passenger ticket

Indian Railway : देश में ट्रेन से यात्रा करने वालों की संख्या काफी अधिक है। ऐसे में यदि आप भी ट्रेन से यात्रा करना पसंद करते हैं तो आपके पास कई जानकारियों का होना आवश्यक है। यदि आप स्टेशन पर जाकर टिकट काउंटर से टिकट लेते हैं। इसके बाद आपका टिकट काउंटर पर ही छूट जाता है या कहीं खो जाता है। इस स्थिति में आप क्या करेंगे। अब आप के मन में चल रहा होगा कि ऐसे में यात्रा कैसे पूरी होगी। तो आइए इससे जुड़े सभी बातों को विस्तार से जानते हैं।

बता दें कि अब टिकट दिखाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। ई- टिकट को मोबाइल से पीएनआर नंबर या टिकट की जानकारियां दिखा देने पर काम हो जाता है। लेकिन इसके लिए भी कई शर्तों से गुजरना पड़ता है। यह नियम केवल आईआरसीटीसी के माध्यम से बुक किए गए टिकट पर वैध है। दरअसल ममता बनर्जी जिस समय रेलवे मंत्री थी। उस वक्त ई टिकट को अपने साथ रखने की जरूरत को समाप्त कर दिया था।

इस टिकट को माना जाएगा अमान्य : बता दें कि रेलवे के नियमों के मुताबिक काउंटर पर लिए गए टिकट को यात्री अपने साथ रखें। रेलवे टिकट की फोटो कॉपी या मैसेज को मान्य नहीं मानती है। रेलवे टिकट कैंसिल भी काउंटर पर जाकर ही किया जाता है। रेलवे यदि अपने इस प्रावधान के विपरीत चले तो उसे काफी घाटा का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे कई वजहों से रेलवे यात्रियों से ओरिजिनल टिकट की मांग करता है। यदि कोई यात्री ओरिजिनल टिकट अपने साथ नहीं रखता है तो उसे जुर्माना भरना पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें   Indian Railway : आजादी से पहले ट्रेन के AC कोच को बर्फ की सिल्लियों से ठंडा किया जाता था?

इस रेल मंत्री ने नियमों में किया बदलाव : फिलहाल ई – टिकट वालों के लिए कोई बाध्यता नहीं है। ई टिकट वाले यात्री के द्वारा मैसेज, टिकट की स्क्रीनशॉट दिखा देने पर उनका काम हो जाता है। लेकिन पहले ई टिकट वाले यात्री को प्रिंटआउट लेकर चलना होता था। प्रिंटआउट वाले यात्री को बे-टिकट मानकर फाइन काट दिया जाता था। लेकिन ममता बनर्जी जब रेल मंत्री का कार्यभार संभनली तो इनमें बदलाव किया गया। उनके कार्यकाल में ई- टिकट प्रिंटआउट लेकर चलने की बाध्यता को समाप्त कर दिया गया।