Indian Railway : काउंटर ट‍िकट खो जाने पर क्या होगा? जान लें रेलवे का ये खास न‍ियम..

indian railways

Indian Railway : अगर आप ट्रेन से यात्रा कर रहे हैं और आपने रिजर्वेशन काउंटर से टिकट खरीदा है। लेकिन यात्रा के दौरान गलती से उसे अपने साथ ले जाना याद नहीं है, इसलिए यह एक वैध यात्रा होगी या नहीं। इसको लेकर हमेशा संशय और भ्रम की स्थिति बनी रहती है। आज हम आपको इसी के बारे में स्पष्ट और सटीक जानकारी देने की कोशिश कर रहे हैं। आप इसके बारे में बेहतर जानते हैं। यदि आपके पास यह जानकारी नहीं है, तो यह आपकी आरामदायक ट्रेन यात्रा को किरकिरा बना सकती है।

दरअसल, डिजिटल इंडिया की ओर तेजी से बढ़ते हुए भारतीय रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए ऑफलाइन के साथ-साथ ऑनलाइन सुविधाएं भी मुहैया कराई हैं। हालांकि, इन दोनों मामलों में यात्रा के दौरान एक बड़ा अंतर होता है, जिसे यात्रा करने से पहले जानना बहुत जरूरी है। नहीं तो आपकी जेब पर दोहरी मार पड़ेगी। वहीं दूसरी ओर रेलवे के नियमों के अनुसार आपको कोई नई परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

जानकारी के मुताबिक, अगर आपने अपने गंतव्य तक ट्रेन से यात्रा करने के लिए विंडो टिकट खरीदा है, या तो सामान्य कोटा या तत्काल टिकट के साथ। यही कारण है कि जब आप यात्रा करते हैं तो इसे अपने साथ रखना महत्वपूर्ण है। ट्रेन यात्रा के दौरान खिड़की का टिकट तभी वैध माना जाएगा जब वह उसके साथ हो। लेकिन ऑनलाइन टिकट के मामले में ऐसा नहीं है।

ऑनलाइन टिकट बुकिंग के जरिए यात्रा करने के नियम थोड़े अलग हैं। ऐसे में अगर आपके पास टिकट नहीं है और आपके मोबाइल में आईआरसीटीसी द्वारा भेजा गया कोच और बर्थ मैसेज या टिकट की सॉफ्ट कॉपी है तो भी आप टीटीई को दिखाकर यात्रा कर सकते हैं। हालांकि काउंटर टिकट को अपने साथ नहीं ले जाना या किसी कारणवश भूल जाना आपको परेशानी में डाल सकता है।

ये भी पढ़ें   दिवाली से पहले इन सरकारी कर्मचारियों के खाते में आएंगे 30 हजार रुपए - ऐसे करना होगा चेक

ट्रेन छूटने के आधे घंटे बाद कैंसिलेशन प्राप्त किया जा सकता है : रेलवे अधिकारियों ने कहा कि भारतीय रेलवे के नियमों में काउंटर टिकट ले जाने की आवश्यकता है ताकि ट्रेन के प्रस्थान के आधे घंटे बाद भी उन्हें रद्द किया जा सके। यात्रियों के पास ये टिकट नहीं होने और उन्हें सॉफ्ट कॉपी या आईआरसीटीसी संदेशों के आधार पर यात्रा करने की अनुमति देने से भी रेलवे को राजस्व का नुकसान हो सकता है। ऐसा इसलिए संभव है क्योंकि ट्रेन छूटने के आधे घंटे बाद विंडो टिकट का दावा किया जा सकता है और यात्री उन पर यात्रा भी करेंगे।

अगर आपके पास टिकट नहीं है, तो आप इस तरह ट्रेन से यात्रा कर सकते हैं : अधिकारियों के मुताबिक अगर कोई यात्री यात्रा के दौरान विंडो टिकट (पीआरएस काउंटर टिकट) नहीं लेता है तो उसे टिकट की कीमत के साथ वैध दस्तावेज और जीएसटी जमा करने के बाद ही यात्रा के दौरान यात्रा की अनुमति दी जा सकती है। लेकिन इसके लिए भी यात्रियों को यह साबित करना होगा कि जो टिकट जारी किया गया था वह वास्तव में उनके नाम पर था। उसके बाद, उस टिकट की कीमत और जुर्माना प्लस जीएसटी (एसी क्लास टिकट के मामले में) अलग से भुगतान करने के बाद ही उन्हें यात्रा टिकट जारी किया जाएगा।

इस प्रकार, यात्रा के बाद दावे किए जा सकते हैं : रेलवे बोर्ड के अधिकारी यह भी स्पष्ट करते हैं कि काउंटर से काउंटर तक टिकट खरीदने के बाद कोई भी यात्री फोटो कॉपी या मोबाइल विवरण या संदेशों के आधार पर यात्रा नहीं कर सकता है। अपनी यात्रा के दौरान उस टिकट को अपने साथ ले जाना अनिवार्य है।

ये भी पढ़ें   सितंबर के बाद भी इन राशन कार्ड धारकों को मिलेगा मुफ्त राशन - जानें सरकार की इस योजना के बारे में सब कुछ

इसके पीछे वजह यह है कि कोई ट्रेन के छूटने के 30 मिनट बाद उसे कैंसिल करा सकता है और उस पर दावा (टिकट कैंसिलेशन) कर सकता है। जबकि अगर कोई ऑनलाइन टिकट के साथ यात्रा नहीं कर रहा है, तो उनका धनवापसी स्वचालित रूप से यात्री के वॉलेट या खाते में वापस / स्थानांतरित कर दिया जाता है।

टिकट की वैधता को लेकर इस साल उठाए गए अहम कदम : 2012 के नियमों के अनुसार, ट्रेन की सीटों या बर्थ और कोच नंबरों के संबंध में मोबाइल फोन पर भेजे गए संदेशों को वैध टिकट के रूप में तभी स्वीकार किया जाता है, जब यात्री आईआरसीटीसी की वेबसाइट या मोबाइल फोन ऐप पर गए हों। टिकट (आईआरसीटीसी ऐप) से बुक किए जाते हैं। इन नियमों को विंडो टिकट में मान्य नहीं माना जाता है। 2009 में तत्कालीन रेल मंत्री ममता बनर्जी के कार्यकाल के दौरान ई-टिकट के प्रिंट आउट की बाध्यता को भी समाप्त कर दिया गया था, जिसके बाद एसएमएस की वैधता को स्वीकार किया जा सका।