December 1, 2022

Indian Railway : ट्रेन में TTE की मनमानी खत्म! अब हाथ में चार्ट की जगह लेकर चलेंगे ये आधुनिक मशीन, जानें –

TTE

Indian Railway : TTE अब ट्रेनों में यात्रा के दौरान मनमाने ढंग से बर्थ आवंटित नहीं कर सकते हैं। टिकट चेक करने वाले कर्मचारी हाथ में मैनुअल चार्ट के बजाय अब आधुनिक हैंड हेल्ड टर्मिनल (HHT) से लैस होंगे। रेलवे बोर्ड के निर्देश पर नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे में ट्रेनिंग शुरू हो गई है. पहले चरण में पूर्वोत्तर रेलवे के 16 कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया गया है। शेष कर्मचारियों को प्रशिक्षण के बाद एचएचटी दिया जाएगा।

उत्तर पूर्व रेलवे को मिले कुल 316 एचएचटी : मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के मुताबिक, पूर्वोत्तर रेलवे को कुल 316 एचएचटी मिले हैं. इनमें से लखनऊ मंडल में 191, वाराणसी मंडल में 96 और इज्जतनगर मंडल में 29 एचएचटी आवंटित किए गए हैं।

बर्थ खाली होते ही RAC और Waiting ticket कन्फर्म होंगे : ट्रेन में यात्रियों के नेट टर्न-अप के कारण खाली हुई बर्थ को एचएचटी में फीड किया जाएगा। खाली बर्थ फीड होते ही आरएसी बर्थ की पुष्टि हो जाएगी। टिकट कन्फर्मेशन की जानकारी यात्री के मोबाइल पर पहुंच जाएगी। आरएसी क्लियर होने के बाद बर्थ खाली होने के बाद वेटिंग लिस्ट के यात्रियों के टिकट भी कंफर्म हो जाएंगे। इसकी जानकारी यात्रियों के मोबाइल फोन तक भी पहुंच जाएगी। एचएचटी के उपयोग से अनधिकृत बर्थ आवंटन पर अंकुश लगेगा। वेटिंग लिस्ट के यात्रियों को राहत के साथ-साथ पारदर्शिता के साथ रियल टाइम बर्थ की उपलब्धता भी मिलेगी।

Railtel के नेटवर्क पर चलेगा सिस्टम : हैंड हेल्ड टर्मिनल (HHT) सिस्टम रेलटेल के नेटवर्क 4जी पर चलेगा। वह रास्ते में पॉइंट ऑफ सेल (POS) की तरह प्रतिक्रिया नहीं देगा। दरअसल, व्यवस्था को पारदर्शी बनाने के लिए रेलवे प्रशासन ने हर टीटीई को पीओएस दिया है, लेकिन आज तक एक भी ऑनलाइन जुर्माना नहीं काटा गया है. रेलवे और भारतीय स्टेट बैंक के पीओएस सिस्टम टेकऑफ़ से पहले ही चरमरा गए हैं।

ये भी पढ़ें   Indian Railway : क्या आप जानते है चलती ट्रेन में चेन पुलिंग की अनुमति कब होती है? आज जान लीजिए..