ट्रेन यात्रा के दौरान TTE किसी भी हाल में चेक नहीं कर सकता टिकट, जानें नया नियम

When train ticket not be available

डेस्क: आप में से बहुत से लोग भारतीय ट्रेन (Indian Train) में यात्रा तो जरूर करते होगे, तो यह नियम आपके लिए जानना बेहद जरूरी है, क्योंकि कई बार आए ऐसा हो जाता है आप यात्रा का रूल नहीं जानते हैं, और यात्रा करना शुरू कर देते हैं, तो ऐसे में बहुत सारी परेशानियां सामने आ जाती है, इन्हीं सब परेशानियों को दूर करने के लिए आज हम आपको कुछ नियम बताने जा रहे हैं।

हर यात्री चाहता है कि उसका यात्रा सुखद हो। लेकिन, कई बार ट्रेन में होने वाले शोर, टिकट चेकिंग, सीट को लेकर यात्रियों की आवाजाही से अक्सर लोग परेशान हो जाते है, तो क्या आप जानते हैं, ट्रेन यात्रा के दौरान आपकी बगैर मर्जी के कोई आपको डिस्टर्ब नहीं कर सकता। रेलवे के नियमों  के मुताबिक, रेलवे का टिकट एग्जामिनर (TTE) भी सोते वक्त आपकी टिकट चेक नहीं कर सकता। आइए आपको रेलवे के इन नियमों के बारे में बताते हैं।

बता दे की ट्रेन यात्रा के दौरान TTE यात्रियों को टिकट जांच करता है, कई बार ऐसा भी हो जाता है, वो देर रात में आपको जागकर टिकट या आईडी दिखाने के लिए कहता है, लेकिन, आपको बता दें, रात 10 बजे के बाद TTE भी आपको डिस्टर्ब नहीं कर सकता है, टीटीई को सुबह 6 से रात 10 बजे के बीच ही टिकटों का वेरिफिकेशन करना जरूरी है, रात में सोने के बाद किसी भी पैसेंजर को डिस्टर्ब नहीं किया जा सकता,यह गाइडलाइन रेलवे बोर्ड की है।

ध्यान रहे! रेलवे ने एक और नियम बना है, जिसमे रात 10 बजे के बाद यात्रा करने वाले यात्रियों पर नहीं लागू होगा, यानी अगर आप ट्रेन में रात के 10 बजे के बाद बैठे हैं, तो TTE आपकी टिकट और आईडी चेक कर सकता है।

ये भी पढ़ें   खुशखबरी! घर के छत पर मुफ्त में लगाएं सोलर पैनल, जिंदगीभर के लिए फ्री हो जाएगी बिजली, जानिए- कैसे मिलेगा लाभ?

एक और नियम है, यह भी जानना आपके लिए बेहद जरूरी है, क्योंकि कई बार सीट बैठने को लेकर यात्रियों में मारामारी हो जाती है, खासकर लोअर बर्थ वाले के साथ, रेलवे के नियम के मुताबिक, मिडिल बर्थ वाला यात्री अपनी बर्थ पर 10 बजे रात से सुबह 6 बजे तक ही सो सकता है, यानी रात 10 से पहले अगर कोई यात्री मिडिल बर्थ खोलने से रोकना चाहे तो आप उसे रोक सकते हैं, वहीं, सुबह 6 बजे के बाद बर्थ को नीचे करना होगा, ताकि दूसरे यात्री लोअर बर्थ पर बैठ सकें।