9 February 2023

IPS Pooja Yadav : ये हैं देश की सबसे ब्यूटीफुल महिला IPS ऑफिसर, तस्वीरें देख आप भी हो जाएंगे फ़िदा..

IPS Pooja Yadav : ये हैं देश की सबसे ब्यूटीफुल महिला IPS ऑफिसर, तस्वीरें देख आप भी हो जाएंगे फ़िदा.. 1

न्यूज़ डेस्क: देश में आज भी सिविल सर्विस करना अपने आप को भाग्यशाली और महनती साबित करने जैसा है। लोग इन नौकरियों को पाने के लिए कड़ी मेहनत और प्रयास करते हैं। कई राज्यों में तो माहौल यह है कि बच्चें मैट्रिक पास करते ही यूपीएससी की तैयारी करने में लग जाते हैं।

वहीं किसी बेटी का आईपीएस बन जाना यह पूरे जिले के लिए गर्व की बात होती है। आज हम आपको एक ऐसी महिला आईपीएस के बारे में बताएंगे जो अपनी मेहनत और लगन से इस ओहदे को हासिल की है। इनका नाम आईपीएस पूजा यादव है। यह अपनी कार्यभार के साथ-साथ खूबसूरती को लेकर पूरे देश भर में प्रसिद्ध हैं।

IPS पूजा यादव की खूबसूरती किसी फिल्मी हीरोइन से कम नहीं है। ऐसा कई बार सुनने और देखने को मिलता है कि खूबसूरत लड़कियां मेहनत करना नहीं चाहती। लेकिन इस तथाकथित वाक्यों को पूजा यादव ने झूठा साबित कर दिया है। हालांकि इन वाक्यों का वास्तविकता से कोई लेना-देना भी नहीं है। आईपीएस पूजा यादव हरियाणा की रहने वाली है। इन्हें साल 2018 में यह कामयाबी मिली। इसके बाद साल 2021 में विकल्प भारद्वाज के साथ शादी हुई। इनकी खूबसूरती की चर्चा देश में इतनी है कि आपको कई सारे इन पर स्टोरी और वीडियोस मिल जाएंगे।

करोड़ों का पैकेज छोड़ कर बनी IPS

आईपीएस पूजा यादव एमटेक की छात्र रह चुकी हैं। इन्हें कई बड़े बड़े विदेशी कंपनियों में नौकरी करने का मौका मिल चुका है। लेकिन उन्होंने अपने देश में रहकर देश की सेवा करना उचित समझा। इनके इस कामयाबी के पीछे काफी संघर्ष रहा है। इनके साथ एक समय ऐसा भी गुजरा कि खर्च निकालने के लिए इन्हें रिसेप्शनिस्ट के तौर पर भी काम करना पड़ा। पूजा यादव ने एमटेक करने के बाद कड़ी मेहनत और लगन से यूपीएससी की परीक्षा क्रैक कर कर आईपीएस बनी। आईपीएस पूजा यादव अपने राज्य हरियाणा के अलावा पूरे देश को गौरवान्वित कर रही हैं।

तेज तर्रार IPS पूजा यादव

आईपीएस पूजा यादव एक तेजतर्रार आईपीएस ऑफिसर के तौर पर जानी जाती हैं। यह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। पूजा यादव तब और चर्चा में आ गई जब थराद में कार्रवाई करने के दौरान डेढ़ करोड़ का शराब जप्त कर लिया। यह तब तक शांत नहीं रही जब तक आरोपी सलाखों के पीछे नहीं चले गए।