1 February 2023

केंद्र सरकार ने दिया किसानों को दोहरा तोहफा अब , किसानों को पैसे के साथ मिला ये गिफ्ट

modi

दिवाली से पहले केंद्र सरकार ने किसानों को दूसरा बड़ा तोहफा दिया है. अब मोदी कैबिनेट ने किसान सम्मान निधि की 12वीं किस्त जारी करने के बाद गेहूं सहित 6 रबी फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी मिनिमम सपोर्ट प्राइस (MSP) बढ़ा दी है. मीडिया को सम्बोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार ने 2022-23 के लिए रबी फसलों के लिए एमएसपी निर्धारित कर दी है.

उन्होंने कहा कि 110 रुपये की बढ़ोतरी गेहूं की एमएसपी पर की गई. गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य अब 2125 रुपये क्विंटल हो गया. इसी तरह 100 रुपये की वृद्धि जौ की एमएसपी में की गई है. इसके साथ ही 1735 रुपए प्रित क्विंटल जौ की एमएसपी हो गई. वहीं, 105 रुपये की वृद्धि चने की एमएसपी में की गई है. इसका न्यूनतम समर्थन मूल्य अब 5335 रुपये क्विंटल हो गया है. जबकि, न्यूनतम समर्थन मूल्य मसूर का 500 की वृद्धि के साथ 6000 रुपये क्विंटल हो गया है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 400 रुपए की वृद्धि रिप्सिड सरसों की एमएसपी में की गई है.

बता दें कि केंद्र सरकार ने बीते जून महीने में खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने की मंजूरी दे दी थी. केंद्रीय कैबिनेट ने तब 2022-23 फसल वर्ष के लिए धान की MSP को 100 रुपये बढ़ाकर 2,040 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया था. इसी तरह अन्य कई खरीफ फसलों पर भी MSP बढ़ा दी गई थी. किसानों को सरकार के इस फैसले से बड़ी राहत मिली थी. दरअसल, कैबिनेट की बैठक में तब खरीफ की 14 फसलों की 17 वैरायटियों की नई MSP को मंजूरी दी गई थी. ये भी अपको बताते चलें कि तिल की MSP 523 रु, तुअर और उड़द दाल की MSP 300 रुपए बढ़ाई गई थी. वहीं धान (सामान्य) की MSP 1,940 रुपए प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 2,040 रुपए प्रति क्विंटल कर दी गई थी. अब ऐसे में MSP का बजट बढ़कर 1 लाख 26 हजार हो गया था.

पिछले साल भी इसी तरह केंद्र सरकार ने रबी सीजन की छह फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाया था. सबसे ज्यादा बढ़ोतरी सरसों और मसूर में जो कि 400-400 रुपये प्रति क्विंटल तक की गई थी. जबकि सबसे कम बढ़ोतरी एमएसपी में जौ में हुई थी. सरकार ने गेहूं, चना, जौ, मसूर, सरसों और सूरजमुखी के सरकारी खरीद मूल्य में इजाफा किया था. जौ की एमएसपी 1600 रुपये प्रति क्विंटल से 1635 रुपये बढ़ाकर किया गया था. वहीं 130 रुपये की वृद्धि चने की एमएसपी में की गई थी. इसकी कीमत तब 5230 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित की गई थी. इसके अलावा मसूर की एमएसपी में 400 रुपये, सरसों में 400 रुपये और सूरजमुखी की एमएसपी में 114 रुपये का इजाफा करने का फैसला किया गया था.