Tokyo Paralympics में सुमित अंतिल ने जिताया दूसरा Gold Medal – भाला फेंक में निकले सबसे आगे – 3 बार तोड़ा खुद का रिकॉर्ड

Sumit Antil (2)

डेस्क : भारत को जैवलिन थ्रो में दूसरा गोल्ड मेडल मिला है, बता दें कि यह मेडल सुमित अंतिल ने दिलवाया है। हमेशा की तरह ओलंपिक्स के खत्म होने के बाद पैरालंपिक्स शुरू हो जाता है। पैरालंपिक्स में वह खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं जिनका शरीर का कोई एक अंग काम नहीं कर रहा होता है।

ऐसे में सुमित अंतिल ने भारत की झोली में दूसरा गोल्ड मेडल लाकर रख दिया है, बता दें की सुमित अंतिल की बाईं टांग नहीं है। सुमित अंतिल इतने मेधावी खिलाड़ी है कि उन्होंने हर बार अपना रिकॉर्ड तोड़ा है ,उन्होंने गोल्ड मेडल 68.55 मीटर का भाला फेंक कर जीता है।हरियाणा के सोनीपत के रेहने वाले 23 वर्षीय खिलाड़ी की साल 2015 में मोटरबाइक दुर्घटना के चलते अपना बायां पैर खो दिया। लेकिन हार ना मानते हुए खेल के दौरान उन्होंने अपने पांचवें प्रयास में भाले को 68.55 मीटर फेंका। अब उन्होंने नया रिकॉर्ड बना लिया है। उनकी सीरीज 66.95, 68.08, 65.27, 66.71, 68.55 इस प्रकार रही। वह दिल्ली के रामजस कॉलेज से पढ़े हैं।

जैसा की हमने बताया सुमित अंतिल हरियाणा के सोनीपत के रहने वाले हैं। वह शुरुआती दिनों में एक रेसलर बनना चाहते थे। उनकी प्रेरणा योगेश्वर दत्त है। 2015 में एक बाइक दुर्घटना में उनको अपना बायां पाँव खोना पड़ा था। दरअसल, हुआ यह कि सुमित अंतिल अपनी मोटरसाइकिल पर सवार होकर निकले थे। ऐसे में एक ट्रैक्टर ने उनको टक्कर मार दी और ट्रैक्टर उनके पैर पर चढ़ गया, जिसके कारण उनका पूरा पैर निकलवाना पड़ा। वह एम्प्यूटेड पैर के साथ खेलते हैं।

You cannot copy content of this page