9 February 2023

Indian Railway : केवल इतने रुपए में Train से दूसरे शहर भेजें अपनी बाइक-स्‍कूटी, जानें – सबकुछ..

Train Bike Parcel

डेस्क: भारतीय रेलवे दुनिया का सबसे चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। लोग इससे यात्रा करना आरामदायक समझते हैं। आपको पता होगा कि ट्रेन के माध्यम से सफर करने के साथ साथ सामान भी पार्सल किया जाता है। हर ट्रेन में एक पार्सल बोगी उपलब्ध है,

जिसमें आप अपने साथ-साथ किसी भी वस्तु को गंतव्य तक ले जा सकते हैं। इसके लिए कई प्रक्रियाओं से गुजरना होगा। हालांकि चार्ज काफी कम है। इस वजह से लोग ट्रेन से बाइक व स्कूटर आदि मंगवाना चाहते हैं, ताकि कम पैसे में काम निकल जाए। यदि आप भी बाइक स्कूटर ट्रेन के माध्यम से मंगाना चाहते हैं तो आइए विस्तार में जानते हैं।

पार्सल करने का तरीका

बाइक को पार्सल करने के लिए आप सबसे पहले अपने नजदीकी रेलवे स्टेशन पर जाएं। वहां आपको संबंधित काउंटर से पार्सल से जुड़ी सारी जानकारी दी जाएगी। जानकारी मिलने के बाद आप कागजी कार्रवाई पूरी करें। सभी कागजों की मूल और फोटोस्टेट कॉपी अपने पास रखें। सत्यापन के समय मूल प्रति की आवश्यकता होगी। पार्सल करने से पहले रेलवे कर्मचारी बाइक या स्कूटी के पेट्रोल टैंक की जांच करेंगे। पेट्रोल टैंक खाली करने के बाद ही पार्सल की पैकिंग की जाएगी।

इन चीजों को रखें ध्यान

इन बातों खास ख्याल रखना होगा। जिस दिन आप बाइक को डिस्पैच करना चाहते हैं, उससे कम से कम एक दिन पहले बुक कर लें। बाइक का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट और इंश्योरेंस आदि दस्तावेज आपके पास होने चाहिए। पार्सल के लिए आपका आईडी कार्ड जैसे आधार, ड्राइविंग लाइसेंस आदि भी अटैच किया जाएगा। यह भी जांच लें कि बाइक अच्छी तरह से पैक है, जैसे हेडलाइट और सीट आदि। अगर टैंक में पेट्रोल है तो आप पर 1000 रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।

रेलवे पार्सल द्वारा एक शहर से दूसरे शहर में सामान भेजने के लिए वजन और दूरी के हिसाब से किराया वसूला जाता है। रेलवे बाइक परिवहन का एक सस्ता और तेज साधन है। लगेज का चार्ज पार्सल से ज्यादा होता है। बाइक को 500 किलोमीटर की दूरी तक भेजने का औसत भाड़ा 1200 रुपये है। बाइक के वजन के हिसाब से इसमें थोड़ा बहुत अंतर हो सकता है। इसके अलावा बाइक की पैकिंग पर 300-500 रुपए का खर्च आ सकता है।