ATM से कैश निकालने के बदले नियम – फटाफट जान ले नया नियम वरना अटक जाएंगे पैसे..

atm machine

Desk : अगर आप भी एटीएम से कैश निकालते हैं तो जान लीजिए कि पैसे निकाले जाने के नियम में कुछ बदलाव किए गए हैं। जी हां एसबीआई ने एटीएम से ट्रांसलेशन को और अधिक सुरक्षित और फ्रॉड से बचाने को लेकर पुराने नियमों में कुछ बदलाव कर दिए हैं। आपको एसबीआई एटीएम से कैश निकालने के लिए OTP दर्ज करना होगा।

अब ग्राहक नए नियम के तहत बिना ओटीपी के कैसे नहीं निकाल सकते हैं। कैश निकालने के दौरान मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी नंबर आएगा जिसे डालने के बाद ही ग्राहक कैसे निकासी कर सकते हैं। ट्वीटर के जरिए बैंक ने जानकारी दी और कहा कि एसबीआई एटीएम में लेन देन के लिए हमारी ओटीपी आधारित नकद निकासी प्रणाली धोखेबाज के खिलाफ़ टीकाकरण का काम करेगी। हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता आपको धोखाधड़ी से बचाना है। इस बात की जानकारी एसबीआई के ग्राहकों को होनी चाहिए ओटीपी आधारित नकद निकासी प्रणाली कैसे काम करती है।

ATM Machine

यह है नियम – यह नियम 10000 या उससे अधिक रकम के लिए लागू किए गए हैं। ग्राहकों को उनके बैंक अकाउंट से रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी नंबर भेजा जाएगा। इस ओटीपी के साथ डेबिट कार्ड पिन के साथ हर बार अपने एटीएम से हर बार ₹10000 या उससे अधिक निकालने की इजाजत देता है।

आपको एसबीआई एटीएम से कैश निकालने के लिए एक ओटीपी डालना होगा। यह ओटीपी आपके बैंक खाते में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर जाएगा। चार अंको की संख्या वाला ओटीपी ग्राहकों के सिंगल ट्रांजैक्शन के लिए मिलेंगे। इसके बाद कैसे निकासी के लिए आपको इस स्क्रीन में बैंक के साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी दर्ज करना होगा।

ये भी पढ़ें   Indian Railways : अब बिल्कुल Free में बुक करें कंफर्म टिकट! मिलेंगे और भी कई फायदे, जानिए कैसे ?

इस नियम को बनाए जाने को लेकर बैंक का कहना है कि ग्राहकों को फ्रॉड से बचाने के लिए इसे बनाया गया है। बताते चलें कि देश के सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक एसबीआई के पास भारत में 71,705 BC आउटलेट्स के साथ 22,224 शाखाएं और 63,906 एटीएम/सीडीएम का सबसे बड़ा नेटवर्क है।