Indian Railways : ट्रेन में रात को सफर करने के बदले न‍ियम, जान लीजिये वरना नहीं कर पाएंगे यात्रा..

Train Travel Rule Night

Indian Railway : भारतीय रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए नया नियम बनाया है। दरअसल, भारतीय रेलवे समय-समय पर नियमों में संशोधन करता रहता है। अब रेलवे ने यात्रियों को रात में होने वाली नींद की समस्या को ध्यान में रखते हुए कुछ नए नियम बनाए हैं। इस नियम से अब यात्रियों को रात में नींद न आने की समस्या नहीं होगी।

नए नियम लागू : मीडिया के मुताबिक रेलवे ने रात की यात्रा के लिए नया नियम लागू किया है. इसके अनुसार अब यात्रा के दौरान आपके आस-पास कोई भी सहयात्री मोबाइल पर जोर से बात नहीं कर पाएगा या तेज आवाज में गाने नहीं सुन पाएगा। दरअसल रेलवे को यात्रियों की ओर से लगातार ऐसी शिकायतें मिल रही थीं, जिसके बाद रेलवे ने यह फैसला लिया है. अगर कोई यात्री ऐसा करता पाया गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

ट्रेन स्टाफ को मिली जिम्मेदारी : रेलवे ने इस नियम को ठीक से लागू करने की जिम्मेदारी ट्रेन स्टाफ को दी है। नए नियमों के तहत अगर ट्रेन में यात्री से मिली शिकायत का समाधान नहीं होता है तो ट्रेन स्टाफ की जवाबदेही होगी यानी रेलवे स्टाफ से पूछताछ की जाएगी. रेल मंत्रालय की ओर से सभी जोनों को आदेश जारी कर इसे तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है.

रेलवे को मिलती थी ये शिकायतें : रेल मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक यात्री सीट पर मौजूद यात्री के मोबाइल पर अक्सर तेज आवाज में बात करने या म्यूजिक सुनने की शिकायत रेलवे को मिलती थी, जिसके बाद यह नियम बनाया गया. ऐसे मामले भी सामने आए हैं जब रेलवे का एस्कॉर्ट या मेंटेनेंस स्टाफ भी गश्त के दौरान जोर-जोर से बात करता है। रात में लाइट जलाने को लेकर यात्रियों के बीच अक्सर विवाद होता रहता था। इससे यात्रियों की नींद में खलल पड़ता है।

ये भी पढ़ें   भोजपुरी स्टार निरहुआ का जलवा बरकरार - आजमगढ़ में सपा प्रत्याशी को 8679 मतों से हराया..

जानिए रात 10 बजे की गाइडलाइन

  • यात्रा के दौरान कोई भी यात्री मोबाइल पर तेज आवाज में बात नहीं करेगा या तेज संगीत नहीं सुनेगा।
  • रात की रोशनी को छोड़कर सभी लाइटों को बंद करना अनिवार्य होगा।
  • ट्रेन में देर रात तक यात्री आपस में बात नहीं कर पाएंगे।
  • 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्ग, दिव्यांग और अविवाहित महिलाओं को रेलवे स्टाफ की जरूरत पड़ने पर तत्काल मदद मिलनी चाहिए.