किसान आंदोलन खत्म करने के मूड में नहीं है राकेश टिकैत, कहा- अभी नहीं खुलेंगे दिल्ली के बॉर्डर.. रखी ये शर्त

Rakesh Tikat

डेस्क: मोदी सरकार ने अंत में किसानों की बात मान ही ली, शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी अपने संबोधन में सबसे पहले तीनों कृषि बिल वापस लेने का फैसला किया, उन्होंने कहा कि “आज मैं आपको, पूरे देश को, ये बताने आया हूं कि हमने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का निर्णय लिया है। इस महीने के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में, हम इन तीनों कृषि कानूनों को Repeal करने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा कर देंगे”

लेकिन, इन्ही सबके बीच किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं, नेता राकेश टिकैत अभी किसान आंदोलन वापस लेने के मूड में नहीं है, राकेश टिकैत का कहना है कि “अभी आंदोलन तत्काल समाप्त नहीं होगा, उन्होंने कहा है कि हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा” राकेश टिकैत ने साथ ही ये भी साफ किया है कि सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) के साथ-साथ किसानों से संबंधित दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करे।

मीडिया को जानकारी देते हुए आगे उन्होंने कहा कि “अभी तो बस ऐलान हुआ है, हम संसद से कानूनों की वापसी होने तक इंतजार करेंगे। राकेश टिकैत ने साथ ही ये भी कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य समेत किसानों से जुड़े अन्य मसलों पर भी बातचीत का रास्ता खुलना चाहिए।”

You cannot copy content of this page