गांव में इंटरनेट कनेक्शन की कमान स्थानीय युवाओं के हाथों में देने की तैयारी, आत्मनिर्भर भारत का सपना होगा साकार

Village Internet

न्यूज डेस्क : केंद्र सरकार ने ग्रामीण युवाओं के हित में एक बहुत बड़ा फैसला लिया। अब गांवों में इंटरनेट सेवा के रखरखाव एवं निगरानी की पूरी जिम्मेदारी ग्रामीण युवाओं के पास होगी। इस काम के लिए लाखों युवकों को ट्रेनिंग दी जाएगी। बता दें कि इन सभी युवाओं को प्रशिक्षण देने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) और टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल के बीच करार हुआ है।

ट्रेनिंग प्राप्त होने पर युवाओं को ऑप्टिकल फाइबर की देखरेख का काम करना होगा। सबसे खास बात सीएससी से जुड़े ग्रामीण उद्यमियों को भी इंटरनेट सेवा के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण समाप्त होते ही सभी युवाओं को अपने गांव स्तर पर ही बिछ रही ऑप्टिकल फाइबर की देखरेख का जिम्मा दिया जाएगा। ऑप्टिकल फाइबर के तहत गांव में इंटरनेट कनेक्शन खराबी के उपरांत गांव के‌ ये प्रशिक्षित युवा ही उसे ठीक कर देंगे।

ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार भी बढ़ेंगे और सपना भी साकार होगा : बता दें कि इससे ग्रामीण युवाओं के लिए रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। वहीं ट्रेनिंग से यह लाभ होगा की गांव में इंटरनेट बिना रुकावट चलेगा। इंटरनेट में खराबी होने पर युवा ही ठीक कर देंगे। कॉमन सर्विस सेंटर अकादमी (CSC) ग्रामीण को प्रशिक्षित करेगी। युवाओं को ऑप्टिकल फाइबर से जुड़े कई काम सिखाएं जाएंगे।

बता दें फिलहाल 10,000 से अधिक ग्रामीण कॉमन सर्विस सेंटर से प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं। वह इंटरनेट की देखरेख का काम में कर रहे हैं। जानकारी देते हुए CSC के CEO संजय कुमार राकेश ने कहा कि इस करार के माध्यम से हम गांव में ग्राम स्तरीय उद्यमियों और ग्रामीण युवाओं के बीच एक ऐसे कौशलयुक्त युवाओं की टीम खड़ा करना चाहते हैं। जिससे भारतनेट कार्यक्रम को गति हासिल हो।

You cannot copy content of this page