December 1, 2022

Indian Railways : अब ट्रेनों में नहीं लेनी पड़ेगी टिकट, ऐसे होगा Free में यात्रा, जानिए डिटेल में…

Train Ticket

Indian Railways : भारतीय रेल सेवा को देश की जीवन रेखा कहा जाता है। हर दिन करोड़ों लोग ट्रेन से अपनी यात्रा पूरी करके अपने गंतव्य तक पहुंचते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी ट्रेन के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें आपको टिकट लेने की जरूरत नहीं है। यह ट्रेन भारत के किसी भी नागरिक के लिए मुफ्त यात्रा करती है।

Indian Railways : अब ट्रेनों में नहीं लेनी पड़ेगी टिकट, ऐसे होगा Free में यात्रा, जानिए डिटेल में… 1

इतना ही नहीं, ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि कुछ खास लोग इस ट्रेन में मुफ्त यात्रा का आनंद ले सकें। बल्कि इस 13 किमी लंबे रूट पर कोई भी फ्री में सफर कर सकता है। इतना ही नहीं इस पूरे सफर में कोई टीटीई भी आपकी जांच करने नहीं आएगा। इसलिए, आप बिना किसी प्रतिबंध के मुफ्त में यात्रा का आनंद ले सकते हैं। आइए जानते हैं कि यह ट्रेन किस रूट पर चलती है। आपको बता दें कि हम जिस फ्री रेल रूट की बात कर रहे हैं वह भाखड़ा-नंगल रेल रूट है।

Indian Railways : अब ट्रेनों में नहीं लेनी पड़ेगी टिकट, ऐसे होगा Free में यात्रा, जानिए डिटेल में… 2

भाखड़ा नंगल ट्रेन का संचालन भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड द्वारा किया जाता है। हिमाचल प्रदेश और पंजाब की सीमा पर चलने वाली 13 किमी लंबी ट्रेन बेहद खूबसूरत है। रेल मार्ग सतलुज नदी से होकर गुजरता है और इस मार्ग पर यात्रियों से कोई किराया नहीं लिया जाता है। ऐसा करने का कारण यह है कि भाखड़ा-नागल बांध को अधिक से अधिक लोग देख सकते हैं। इतना ही नहीं यह ट्रेन पिछले 70 साल से इसी रूट पर चल रही है। आपको बता दें कि पहले इस ट्रेन में 10 कोच हुआ करते थे, लेकिन अब तीन ही बचे हैं।

ये भी पढ़ें   कैसे बनेगा श्रद्धा का डेथ सर्टिफिकेट, जारी करने की जिम्मेदारी किसकी? सामने हैं कई चुनौतियां
Indian Railways : अब ट्रेनों में नहीं लेनी पड़ेगी टिकट, ऐसे होगा Free में यात्रा, जानिए डिटेल में… 3
Indian Railways : अब ट्रेनों में नहीं लेनी पड़ेगी टिकट, ऐसे होगा Free में यात्रा, जानिए डिटेल में… 5

बीबीएमबी के कर्मचारी इसे एक विरासत के रूप में देखते हैं और आगंतुकों का स्वागत करते हैं। बांध तक पहुंचने के लिए यह ट्रेन पहाड़ों को पार करती है। भगड़ा-नंगल बांध का निर्माण 1948 में शुरू हुआ था और इसे श्रमिकों और मशीनरी के परिवहन के लिए रेलवे ट्रैक के रूप में इस्तेमाल किया गया था। बांध को औपचारिक रूप से 1963 में खोला गया था और इसे स्ट्रेट ग्रेविटी डैम के रूप में जाना जाता है। आपको बता दें कि बांध के ऐतिहासिक महत्व के बावजूद रेलमार्ग का व्यवसायीकरण नहीं किया गया था। क्योंकि बीबीएमबी चाहता है कि अगली पीढ़ी यहां की विरासत को देखने आए। बरमाला, ओलिंडा, नेहला भाखड़ा, हंडोला, स्वामीपुर, खेड़ा बाग, कालाकुंड, नंगल, सालंगडी सहित हर जगह से लोग ट्रेन से यात्रा करते हैं।