राष्ट्रीय राजमार्गों के विस्तार के साथ तेजी से आगे बढ़ रहा नया कश्मीर, अब घाटी तक बिछेगा सड़कों का जाल..जानें –

न्यूज डेस्क : पिछले कई सालों से जम्मू कश्मीर के हालात किसी से छुपी नहीं है, एक तरफ जब प्रदेश में हर तरफ डर और दहशत का माहौल था, उसमे दूर- दूर तक राज्य में परिवर्तन की कोई सोच भी नहीं सकता था। पर समय के साथ बदलाव आया। नया जम्मू और कश्मीर के निर्माण की प्रक्रिया 5 अगस्त, 2019 से काफी पहले से शुरू हो गई थी। जब नई दिल्ली ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के अपने फैसले की घोषणा की और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित किया। 2014 में केंद्र में परिवर्तन के बाद, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने जम्मू-कश्मीर में समस्याओं के मूल कारणों तक पहुंचने पर ध्यान केंद्रित किया।

2021 में अकेले जम्मू-कश्मीर में बने 11 राष्ट्रीय राजमार्ग: सरकार ने उचित सड़क संपर्क की कमी को प्रमुख मुद्दों में से एक के रूप में पहचाना जिसे संबोधित करने की आवश्यकता थी। सिर्फ एक साल के भीतर, यानी 2015 में प्रधान मंत्री ने जम्मू-कश्मीर के लिए 40,900 करोड़ रुपये की सड़क बुनियादी परियोजनाओं की घोषणा की। जिसमें से लगभग 38,000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं पर काम पहले से ही चल रहा है। 2014 तक, लद्दाख सहित तत्कालीन जम्मू और कश्मीर में केवल सात राष्ट्रीय राजमार्ग थे, लेकिन 2021 में अकेले जम्मू-कश्मीर में ग्यारह राष्ट्रीय राजमार्ग थे। चल रहे विकास कार्यों को गति देने के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री, नितिन गडकरी और जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने 28 सितंबर, 2021 को जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में 3,612 करोड़ रुपये की चार राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं की आधारशिला रखी है।

कश्मीर को दिल्ली के करीब लाने की हो रही कोशिश: 2020-21 में जम्मू-कश्मीर के सुदूर इलाकों में रिकॉर्ड 3,300 किमी सड़कों का निर्माण किया गया। इन सड़कों का उद्देश्य पूरे केंद्र शासित प्रदेश के दूर-दराज के क्षेत्रों में हर मौसम में सुरक्षित संपर्क प्रदान करना था।जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्य सचिव बी.वी.आर. सुब्रह्मण्यम ने इस साल मई में कहा था कि ज्यादातर काम प्रमुख कार्यक्रम ‘प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना’ (4) के तहत किया गया था। कश्मीर से सड़क संपर्क के मुद्दे को संबोधित करना घाटी को नई दिल्ली के करीब लाने की दिशा है और सरकार इस पर काम कर रही है। पिछले सात वर्षों के दौरान शुरू की गई परियोजनाओं ने जम्मू-कश्मीर में जमीनी स्थिति को बदलने में मदद की है। लोगों ने भी सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है और शांति, समृद्धि और विकास के पथ पर चल पड़े हैं।

You may have missed

You cannot copy content of this page