रेलवे स्टेशन पर हवा से पानी बनाने की लगी मशीन! अब कोई प्यासा सफर नहीं करेगा, देखें कैसे आता है पानी

train water bottle

अब मध्य रेलवे के मुंबई डिवीजन के छह रेलवे स्टेशनों पर हवा से पानी उत्पन्न करने की तकनीक के द्वारा पीने का पानी उपलब्ध कराया जाएगा। संयुक्त राष्ट्र की ओर से इस तकनीक को मान्यता प्राप्त है। मेघदूत एक वायुमंडलीय जल जनरेटर उपकरण है। यह जल वाष्प को ताजे और स्वच्छ पेयजल में बदलने के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग करता है। स्विच आन करने के कुछ घंटों के भीतर यह पानी बनाना शुरू कर देता है और 1000 लीटर पानी एक दिन में तैयार करता है।

18 से 45 डिग्री सेल्सियस तापमान और 25 से सौ प्रतिशत आ‌र्द्रता तक की स्थिति में यह तकनीक कामयाब है। पीने योग्य पानी के लिए इसे तत्काल समाधान के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। एक अधिकारी ने बताया कि 17 एडब्ल्यूजी कियोस्क स्थापित करने के लिए मैत्री एक्वाटेक प्राइवेट लिमिटेड को पांच साल के लिए अनुबंधित किया गया है। पहले पानी के उत्पादन के लिए कंपनी ने सीएसआइआर और भारतीय रासायनिक प्रौद्योगिकी संस्थान हैदराबाद के साथ सहयोग किया है। छह स्टेशन परिसरों में कियोस्क के लिए 25.5 लाख रुपये सालाना लाइसेंस शुल्क का भुगतान रेलवे को मिलेगा। मुंबई स्थित छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस और दादर में पांच-पांच, कुर्ला, ठाणे में चार, घाटकोपर और विक्रोली में एक-एक वाटर कियोस्क लगेगा। एक लीटर पानी के लिए 12 रुपये चुकाने होंगे।

आपको बता दें कि कंपनी ने कहा है कि रेल यात्री वाटर कियोस्क से पांच रुपये अदा कर 300 मिलीलीटर, आठ रुपये अदा कर 500 मिलीलीटर और 12 रुपये अदा कर अपनी एक लीटर की बोतल भर सकते हैं। यात्रियों को बोतल समेत 300 मिलीलीटर के लिए सात रुपये, 500 मिलीलीटर के लिए 12 रुपये और वहीं एक लीटर के लिए 15 रुपये देने होंगे।

ये भी पढ़ें   1 अक्टूबर से बदलेंगे बैंकिंग-अटल पेंशन योजना के नियम, जानिए कैसे मिलेगा पैसा