एक नजर में जाने पीएम मोदी के 7वें महीने का 7वां राष्ट्रीय सम्बोधन

The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing at the inauguration of the Patrika Gate in Jaipur, through video conferencing, in New Delhi on September 08, 2020.

डेस्क : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना शाम 6 :00 बजे का संबोधन देशवासियों को दिया। यह संबोधन 35 मिनट का था। जैसा कि हम जानते हैं, जब भी वह स्क्रीन पर आते हैं तो कुछ ना कुछ बड़ा करते हैं। ऐसे में सब यही इंतजार कर रहे थे कि अब पीएम क्या अनाउंस करने वाले हैं? इस संबोधन में उन्होंने कई ऐसे मुद्दे जनता को समझाएं जिसमें जनता अब लापरवाही बरतने लगी है।

जैसा कि त्योहारी सीजन आ चुका है और लोग त्योहारों की खरीदारी में लग गए हैं ऐसे मे वह बिल्कुल भी करोना वायरस का ध्यान नहीं दे रहे हैं। साथ ही पीएम मोदी ने कहा की कुछ ऐसे वीडियोस और फोटोस वायरल हुए हैं जिनमें लोग सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते नजर आ रहे हैं। उन्होंने समझाया की यह एक राज्य की नहीं बल्कि भारत के हर राज्य की बात है। इसीलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मानवता को बचाने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है जिसमें कोरोना की वैक्सीन बनाने के लिए देश के हर हिस्से से वैज्ञानिक जुटे हैं। जैसे ही करोना कि वैक्सीन आएगी वह देश के हर भारतीय तक पहुंचेगी इसकी पूरी तैयारी सरकार कर रही है।

विदेश की याद दिलाते हुए वह कहते हैं कि अमेरिका और यूरोप में फिर से मामले बढ़ते नजर आ रहे हैं अगर आप बिना मास्क के बाहर निकल रहे हैं या अपने परिवार के बच्चों को बुजुर्गों को बिना मास्क के बाहर भेज रहे हैं तो आप अपनों को एक बड़े संकट में डाल रहे हैं। यह समय लापरवाह होने का नहीं है बल्कि हर पल सचेत रहने का है हमारे डॉक्टर नर्स हेल्थ वर्कर्स और अन्य जान निस्वार्थ सेवा कर रहे हैं। लोगों ने सिर्फ एक सिद्धांत पर चलकर काम करा जो है “सेवा परमो धर्मा”।

पीएम मोदी ने याद दिलाया कि भले ही लॉकडाउन खत्म हो गया हो परंतु वायरस अभी नहीं गया है पिछले सात-आठ महीनों में देश के हर नागरिक ने यह समस्या झेली। परंतु, लॉकडाउन की वजह से स्थिति संभली हुई थी। ऐसे में उस संभाली हुई स्थिति को हमें आगे बढ़ाना है अब देश में रिकवरी रेट भी अच्छा होने लगा है साथ ही देश नागरिकों के जीवन को बचाने में भी सफल हो रहा है और कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में टेस्ट की बढ़ती संख्या हमारी एक बड़ी ताकत बनती नजर आ रही है।

You cannot copy content of this page